Wednesday, June 16, 2021

डबल लिफ्ट और सिंगल सिलेंडर जैक्वार्ड शेडिंग मैकेनिज्म ( Double lift single cylinder jacquard shedding mechanism )

 डबल लिफ्ट और सिंगल सिलेंडर जैक्वार्ड शेडिंग मैकेनिज्म


डबल लिफ्ट और सिंगल सिलेंडर जेकक्वार्ड की संरचना: 


डबल लिफ्ट जेकक्वार्ड तंत्र में दो ग्रिफ का उपयोग किया जाता है। प्रत्येक ग्रिफ पर आठ नाइफ  लगे होते हैं। डबल लिफ्ट जेकक्वार्ड में, एक वार्प एन्ड  के लिए दो हुक का उपयोग किया जाता है। पेयरिंग लिंक के माध्यम से दोनों हुक एक दूसरे से जुड़े  होते  हैं। चयन नीडल  में दो किंक होते हैं। ये दो किंक (आंखें) दो हुक  से एंगेज्ड  होती  हैं। प्रेशर स्प्रिंग को नीडल  के पिछले सिरे पर फिट किया जाता है। यह स्प्रिंग  नीडल  को सिलेंडर की ओर धकेलता है। नीडल  का अगला सिरा नीडल  बोर्ड के होल से होकर गुजरता है। नीडल  के सामने के छोर के सामने एक पैटर्न सिलेंडर लगा होता है। हुक का दोहरा सिरा एक स्लॉटेड  ग्रिड पर टिका होता है। दो हुक आपस में जुड़े होते  हैं। नेक कॉर्ड का ऊपरी सिरा पेयरिंग लिंक से जुड़ा  होता  है। नैक कॉर्ड  का निचला सिरा सबसे पहले टग बोर्ड के छेद से होकर गुजरता है। नेक कॉर्ड का निचला सिरा एस-लिंक के माध्यम से हार्नेस कॉर्ड के ऊपरी सिरे से जुड़ा होता है। हार्नेस कॉर्ड का निचला सिरा कोम्बर  बोर्ड के छेद से होकर गुजरता है। इस हार्नेस कॉर्ड का निचला सिरा हील्ड वायर के ऊपरी सिरे से जुड़ जाता है। हेल्ड वायर  के निचले सिरे पर एक लिंगो (डेड वेट) लटकाया जाता  है।

डबल लिफ्ट और सिंगल सिलेंडर जैक्वार्ड शेडिंग तंत्र का कार्य सिद्धांत:


डबल लिफ्ट और सिंगल-सिलेंडर जेकक्वार्ड  लूम के बॉटम  शाफ्ट के माध्यम से गति प्राप्त करते हैं। करघे के बॉटम  शाफ्ट पर एक स्प्रोकेट व्हील लगा होता है। यह स्प्रोकेट व्हील एक चेन के माध्यम से जैक्वार्ड शाफ्ट पर लगे दूसरे स्प्रोकेट व्हील से जुड़ा है। एक्सेंट्रिक  कैम ग्रिफ़्स को ऊपर और नीचे की गति प्रदान करते हैं। दोनों ग्रिफ़ एक रेसिप्रोकेटिंग  गति करते हैं। जब एक ग्रिफ़ जेकक्वार्ड के बॉटम डेड सेण्टर  पर पहुँचता है, तो दूसरा ग्रिफ़ जेकक्वार्ड के टॉप डेड सेण्टर  की स्थिति में पहुँच जाता है। जेकक्वार्ड शाफ्ट की आधी चक्कर  के बाद दोनों ग्रिफ अपनी स्थिति बदल लेते  हैं। कार्ड में छेदों के छिद्रण के अनुसार हुक का चयन तब होता है जब ग्रिफ बॉटम डेड सेण्टर  तक पहुंच जाता है। पैटर्न सिलेंडर नीडल  के सामने के सिरों को धक्का देता है। यदि कार्ड में छेद किया होता  है, तो नीडल  का अगला सिरा छिद्रित पैटर्न सिलेंडर में प्रवेश कर जाता  है और संबंधित हुक संबंधित नाइफ के ऊपर  आ  जाता है। यदि कार्ड में कोई होल नहीं होता  है, तो संबंधित नीडल  स्प्रिंग बॉक्स की ओर धकेल दी जाती है और संबंधित हुक नाइफ  से अलग हो जाता है। रेसिप्रोकेटिंग मोशन करता  ग्रिफ़  नाइफ के ऊपर आये हुए हुक्स  को ऊपर की तरफ  ले जाता  हैं। चूंकि हुक नेक कॉर्ड और हार्नेस कॉर्ड के माध्यम से हील्ड वायर से जुड़ जाता है जिससे कि हील्ड वायर भी हुक के साथ ऊपर की दिशा में चला जाता है। इस प्रकार हील्ड वायर की आंख के माध्यम से खींचा गया वार्प का धागा  ऊपर की तरफ उठ  जाता है। लिंगो हुक को नीचे की स्थिति में लाता है। जेकक्वार्ड के आधे चक्कर के बाद, हुक का दूसरा सेट डिजाइन के अनुसार दूसरे ग्रिफ़ के ऊपर आ  जाता है, और यह ग्रिफ़ नाइफ के ऊपर आये हुए  हुक को ऊपर की दिशा में ले जाता है। इस जेकक्वार्ड में सेमी ओपन शेड  बनता  है। एक सिरे को उठाने के लिए दो हुक का उपयोग किया जाता है।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

यार्न काउंट (यार्न फाइननेस ) और यार्न काउंट के विभिन्न सिस्टम ( Yarn count or yarn fineness and different yarn count systems )

 यार्न काउंट (यार्न फाइननेस ) और यार्न काउंट के विभिन्न सिस्टम: सूत की फाइननेस  को सूत की काउंट के रूप में जाना जाता है। यार्न की फाइननेस को...