Tuesday, June 29, 2021

साइड फोर्क मोशन या वेफ्ट फोर्क मोशन (एक सहायक लूम मोशन), Side weft fork motion

 साइड फोर्क मोशन या वेफ्ट फोर्क मोशन (एक सहायक लूम मोशन)

साइड फोर्क मोशन  एक सहायक लूम मोशन होता है। साइड फोर्क मोशन का मुख्य उद्देश्य बुनाई के दौरान वेफ्ट  इंसर्शन फेल होने की स्थिति में मशीन को तुरंत बंद करना है। साइड फोर्क मोशन करघे के स्टार्टिंग हैंडल की तरफ लगा होता है। चूँकि यह मैकेनिज्म  करघे के एक ओर स्थापित होती है जिससे इस क्रियाविधि को साइड फोर्क मोशन  कहते हैं। यह साइड फोर्क मोशन लूम पर बनने बाले कपडे की गुणवत्ता और उत्पादकता दोनों को बेहतर बनाने में मदद करता है।

साइड फोर्क मोशन की संरचना:

रीड के एक सिरे और शटल बॉक्स के मुहाने के बीच एक ग्रिड लगा होता है। रेस बोर्ड में फोर्क के प्रोंग्स  के ठीक सामने एक ग्रूव कटा होता  है। रेस बोर्ड के इस ग्रूव  में फोर्क के प्रोंग्स ऑपरेट होते  हैं। यह ग्रिड स्ले के समानांतर और फोर्क एफ के प्रोंग्स के सामने लगा होता  है। फोर्क एफ को फलक्रम पॉइंट जी पर फलक्रम किया जाता है। फोर्क को वेफ्ट  फोर्क लीवर के पर लगाया जाता है। फोर्क के एक छोर पर प्रोंग होते हैं और  फोर्क के दूसरे सिरे पर  टेल हुक एच होता है। । यह फोर्क  हल्के पदार्थ से बना होता  है। टेल हुक साइड का वजन प्रोंग्स की तरफ से अधिक होता है। आम तौर पर, फोर्क  F का टेल हुक H हैमर लीवर नॉच J पर टिका होता है, क्योंकि टेल हुक H का वजन अधिक होता है। नॉक-ऑफ लीवर L, वेफ्ट  फोर्क लीवर K के ठीक पीछे लगा होता है। नॉक-ऑफ लीवर स्टार्टिंग हैंडल M से टच होता है। करघे के निचले शाफ्ट A पर एक कैम B लगा होता है। ग्रेहाउंड टेल लीवर डी और हैमर लीवर I एक दूसरे से जुड़े हुए होते  हैं और वे दोनों लीवर के जोड़ पर फलक्रम्ड होते  हैं। ग्रेहाउंड टेल लीवर D के अंत में एक बाउल  C लगा होता है। बाउल C कैम B को छूता है।

साइड फोर्क मोशन के कार्य सिंद्धांत:

जब निचला शाफ्ट घूमता है, तो नीचे के शाफ्ट पर लगा कैम बी भी नीचे के शाफ्ट के साथ घूमता है। कैम ग्रेहाउंड टेल लीवर के अंत में लगे बाउल  को ऊपर और नीचे की गति प्रदान करता है। चूंकि ग्रेहाउंड टेल लीवर और हैमर लीवर एक दूसरे से जुड़े होते हैं और दोनों लीवर के जोड़ पर फलक्रम होते हैं ताकि कैम हैमर लीवर को आगे-पीछे गति प्रदान करे।

 साइड वेफ्ट  फोर्क मोशन अपना काम तब करता है जब स्ले  फ्रंट डेड सेंटर पोजीशन में चला जाता है। फोर्क के प्रोंग्स शेड में मौजूद बाने के धागे को करघे की सामान्य चलने की स्थिति में धकेलते हैं। जब फोर्क के प्रोंग्स बाने के धागे से टकराते हैं, तो कांटे का टेल हुक ऊपर उठ जाता  है और लूम चालू स्थिति में रहता है। जब क्रैंक शाफ्ट दो चक्कर लगाता है तो कैम एक चक्कर लगाता है।

यदि करघे के संचालन के दौरान किसी कारण से बाने का धागा अनुपस्थित हो जाता है, तो फोर्क  का टेल हुक हैमर लीवर पर गिर जाता है। चूंकि हैमर लीवर आगे-पीछे गति करता है, इसलिए हैमर लीवर नॉच वेफ्ट  फोर्क लीवर को अपने साथ खीच कर अपने साथ ले जाता  है। वेफ्ट  फोर्क लीवर इस स्थिति में नॉक-ऑफ लीवर को धक्का देता है। नॉक-ऑफ लीवर स्टार्टिंग  हैंडल से टकराता है और स्टार्टिंग  हैंडल अपने स्लॉट से डिसेंगेज हो  जाता है। इस प्रकार करघे को बाने टूटने की स्थिति में रोक दिया जाता है।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

फ्रिक्शन स्पिनिंग विधि, मुख्य विशेषताएं, सीमाएं, बुनियादी संरचना और फ्रिक्शन स्पिनिंग मशीन का कार्य सिद्धांत (Friction spinning method, main features, limitations, basic structure and working principle of friction spinning machine )

 फ्रिक्शन स्पिनिंग  विधि, मुख्य विशेषताएं, सीमाएं, बुनियादी संरचना और फ्रिक्शन स्पिनिंग  मशीन का कार्य सिद्धांत फ्रिक्शन स्पिनिंग क्या है? ....