Sunday, June 27, 2021

यार्न ट्विस्ट टेस्ट (Yarn twist testing )

 यार्न ट्विस्ट टेस्ट:

यार्न ट्विस्ट (ट्विस्ट  की डिग्री):
यार्न ट्विस्ट एक बहुत ही महत्वपूर्ण पैरामीटर पैरामीटर होता  है। रेशों और धागों को एक साथ रखने के लिए आवश्यक ट्विस्ट  की संख्या को सूत ट्विस्ट  की डिग्री कहा जाता है। इसे यार्न में प्रति इंच टर्न्स में मापा जाता है।
ट्विस्ट  की मात्रा या ट्विस्ट  की डिग्री यार्न के प्रदर्शन को गंभीरता से प्रभावित करती है। यदि यार्न में मानक से कम ट्विस्ट होता  है तो यार्न के अंदर फाइबर सलोपपागे भी  हो सकती है। यार्न में कम ट्विस्ट  होता है  तो उस यार्न की टेंसिल स्ट्रेंथ भी  कम  होती है। कम काम ट्विस्ट  के कारण पिलिंग बनने की संभावना हो सकती है। काम ट्विस्ट के धागे से बने कपडे एक नरम एहसास और स्पर्श देगा। यदि यार्न में मानक से अधिक ट्विस्ट होता  हैं तो  यार्न अच्छी टेंसिल स्ट्रेंथ दिखाता है   लेकिन यह एक खुरदरा एहसास और स्पर्श देगा। कपडा बनाने की प्रक्रिया के दौरान यार्न के अंदर स्नॉर्क्लिंग होने   की भी संभावना हो सकती है 
यार्न में इस्तेमाल होने वाले ट्विस्ट के प्रकार नीचे दिए गए हैं:
एस-ट्विस्ट:
सूत के दक्षिणावर्त ट्विस्ट  को एस-ट्विस्ट कहा जाता है। धागे में रेशों का झुकाव अंग्रेजी अक्षर "S" के मध्य भाग जैसा दिखता है।
 जेड-ट्विस्ट:
यार्न के वामावर्त ट्विस्ट  को z-ट्विस्ट कहा जाता है। सूत में रेशों का झुकाव अंग्रेजी अक्षर Z के मध्य भाग जैसा दिखता है।

यार्न ट्विस्ट  परीक्षण विधि:
प्रयुक्त उपकरण:
1 - यार्न ट्विस्ट टेस्टर
2 - यार्न पैकेज
3 - आवर्धक लेंस 
4 - सुई
यार्न ट्विस्ट टेस्टर की संरचना:

फिक्स्ड जबड़ा टेबल के दाईं ओर लगा होता है। इस फिक्स्ड  जबड़े पर घूमने वाला शाफ्ट लगा होता है। यह शाफ्ट बेयरिंग पर लगा होता है। यह किसी भी दिशा में घूमने  के लिए स्वतंत्र होता है। इस घूर्णन शाफ्ट के बाएं \तरफ  में एक घूर्णन धागा क्लैंप लगाया जाता है। इस घूमने वाले शाफ्ट के दाईं ओर स्पर गियर लगा होता है। इस स्पर गियर की परिधि के पास हैंडल लगा होता है। यह स्पर गियर काउंटर मीटर के शाफ्ट पर लगे अन्य गियर के साथ जुड़ जाता है।
स्लाइडिंग जबड़ा टेबल के बाईं ओर लगा होता है। फिक्स्ड और स्लाइडिंग जबड़ों के बीच एक मापने वाला पैमाना लगाया जाता है। स्लाइडिंग जबड़े के शीर्ष पर एक फिक्स्ड  थ्रेड क्लैंप लगाया जाता है। इस फिक्स्ड थ्रेड क्लैंप पर नट फिट किया जाता है। इस थ्रेड क्लैम्प को इस तरह से लगाया जाता है कि जब नमूना की लंबाई ट्विस्ट अंवाइंड होने के कारण बढ़ जाती है तो यह झुक जाती है। इस फिक्स्ड थ्रेड क्लैंप का बाहरी सिरा एक लचीले तार से जुड़ा होता है। यह तार चरखी के ऊपर से गुजरता है। इस लचीले तार के दूसरे सिरे पर एक डेडवेट लटक जाता है। नमूने के नीचे एक ब्लैकबोर्ड भी लगाया गया है।

परीक्षण प्रक्रिया:
पूरी परीक्षण प्रक्रिया नीचे दिए गए चरणों में पूरी होती है:
- सबसे पहले सूत के ट्विस्ट की दिशा की पहचान की जाती है।
- नमूने को माउंट करने से पहले यार्न की लंबाई के लगभग 5 मीटर को यार्न पैकेज से हटा दिया जाता है।
 - अब, फिक्स्ड और रोटेटिंग थ्रेड क्लैम्प्स के बीच की दूरी को स्लाइडिंग जॉ को बाईं दिशा में ले जाकर एडजस्ट किया जाता है।
- फिक्स्ड और रोटेटिंग क्लैंप के बीच की दूरी 10 इंच रखी जाती  है।
- नमूने की लंबाई, परीक्षण के परिणाम की सटीकता के सीधे आनुपातिक हो जाती है।
- यार्न के नमूने को अब फिक्स्ड और रोटेटिंग थ्रेड क्लैम्प के बीच लगाया जाता  है।
- सबसे पहले धागे के एक सिरे को रोटेटिंग थ्रेड क्लैम्प पर लगाया जाता है।
- अब धागे का दूसरा सिरा फिक्स्ड थ्रेड क्लैम्प पर लगाया  जाता  है।
- फिक्स्ड थ्रेड क्लैंप की स्थिति को समकोण पर रखा जाता है।
- यार्न की काउंट  के अनुसार एक उपयुक्त डेडवेट को एक लचीले तार से लटका दिया जाता है।
- काउंटर मीटर अब जीरो पोजीशन पर सेट है।
- स्पर गियर को  पहचानी गई ट्विस्ट की  दिशा के अनुसार हैंडल की मदद से हाथ से घुमाया जाता है।
 - मैग्नीफाइंग ग्लास की मदद से ट्विस्ट देखा जाता है। नमूने के नीचे लगा ब्लैकबोर्ड, देखी जा रही वस्तु की स्पष्टता को बढ़ाने में मदद करता है।
- जब पूरा ट्विस्ट हट जाता है, तो तकनीशियन स्पर गियर को घुमाना  रोक देता  है।
- अब, काउंटर मीटर की अंतिम रीडिंग देखी और नोट की जाती है।
- टर्न प्रति इंच (T.P.I.) की गणना नीचे दी गई है:
टी.पी.आई. = काउंटर मीटर रीडिंग / नमूना परीक्षण लंबाई ( इनचेस)

No comments:

Post a Comment

Featured Post

यार्न काउंट (यार्न फाइननेस ) और यार्न काउंट के विभिन्न सिस्टम ( Yarn count or yarn fineness and different yarn count systems )

 यार्न काउंट (यार्न फाइननेस ) और यार्न काउंट के विभिन्न सिस्टम: सूत की फाइननेस  को सूत की काउंट के रूप में जाना जाता है। यार्न की फाइननेस को...