Tuesday, September 6, 2022

यार्न दोहरीकरण प्रक्रिया, यार्न दोहरीकरण प्रक्रिया के प्रकार, दोहरीकरण प्रक्रिया के उद्देश्य, टू फॉर वन ट्विस्टर मशीन ( yarn doubling process and two for one twister machine)

 यार्न दोहरीकरण प्रक्रिया, यार्न दोहरीकरण प्रक्रिया के प्रकार, दोहरीकरण प्रक्रिया के उद्देश्य, टू फॉर वन ट्विस्टर मशीन :

यार्न दोहरीकरण प्रक्रिया:

दो या दो से अधिक अलग-अलग धागों को एक साथ समूहबद्ध (संयोजन) करने और फिर इन संयुक्त धागों को ट्विस्ट करने  की प्रक्रिया को यार्न दोहरीकरण प्रक्रिया कहा जाता है।

यार्न दोहरीकरण प्रक्रिया के उद्देश्य:

यार्न दोहरीकरण प्रक्रिया के मुख्य उद्देश्य नीचे दिए गए हैं:

1 - यार्न की तन्य शक्ति में सुधार करना।

2 - सूत की कोमलता बढ़ाना l

3 - यार्न की हेअरीनेस काम करना l

4 - सूत की नमी सोखने की क्षमता में सुधार करना।

5 - बुनाई के दौरान साइज़िंग   की प्रक्रिया में कटौती करना।

6 - यार्न की समरूपता में सुधार करना ।

यार्न दोहरीकरण प्रक्रिया के प्रकार:

1 - रिंग दोहरीकरण मशीन

2 - टू फॉर वन ट्विस्टर मशीन :

रिंग दोहरीकरण प्रक्रिया:

रिंग दोहरीकरण प्रक्रिया एक चरण की प्रक्रिया होती है। दो या दो से अधिक यार्न पैकेज एक साथ ट्विस्ट किये जाते  हैं। ट्विस्टिंग  प्रणाली रिंग फ्रेम के समान होती  है।

टू फॉर वन ट्विस्टर मशीन:

यह दो चरणों वाली प्रक्रिया होती  है। पहले चरण में, दो या दो से अधिक अलग-अलग यार्न को समानांतर यार्न वाइंडिंग मशीन की मदद से समूहीकृत या संयोजित किया जाता है। अब धागे में एक निश्चित मात्रा में ट्विस्ट डाला जाता है।

टू फॉर वन ट्विस्टर मशीन की संरचना और कार्य सिद्धांत:

इस प्रक्रिया में धागों का दोहरीकरण दो चरणों में पूरा होता है:

समानांतर वाइंडिंग प्रोसेस:

समानांतर वाइंडिंग प्रक्रिया में, दो या दो से अधिक प्लाइड अनट्विस्टेड यार्न प्राप्त किया जाता है। मशीन क्रील पर यार्न पैकेज को माउंट करने के लिए दो या दो से अधिक शंकु धारकों का उपयोग किया जाता है। इस मशीन के निचले हिस्से में क्रील  फिट किया जाता  है। यार्न को पर्याप्त तनाव प्रदान करने के लिए एक इंडिविजुअल  यार्न टेंशनिंग डिवाइस का उपयोग किया जाता है। यह बहुत महत्वपूर्ण होता है  सभी धागो पर एक सामान तनाव  रखा जाता है । इस मशीन में प्रत्येक धागे  के लिए यार्न ब्रेक स्टॉप सेंसर का उपयोग किया जाता है। यह यार्न ब्रेक सेंसर विशेष वाइंडिंग हेड  को रोकने में मदद करता है जिस हेड के ऊपर  यार्न टूट जाता  है। यार्न ब्रेक सेंसर से गुजरने के बाद सभी धागे  एक साथ जुड़ जाते हैं। अब समूहीकृत यार्न स्ट्रैंड वाइंडिंग  ड्रम के ऊपर चला जाता है। यह वाइंडिंग  ड्रम यार्न पैकेज पर यार्न को वाइंड कर  देता है। टू फॉर वन ट्विस्टर मशीन  के लिए समानांतर वाइंडिंग प्रोसेस  में चीज़ के ऊपर  यार्न को वाइंड किया जाता  है।

ट्विस्टिंग  प्रक्रिया:


इस यार्न ट्विस्टिंग विधि में, समानांतर डबल यार्न को एक  बहुत तेज गति से घूमने वाले  खोखले स्पिंडल के द्वारा ट्विस्ट दिया  जाता है। चीज़ के ऊपर  समानांतर वाइंडकिये गए  यार्न को टू फॉर वन ट्विस्टर मशीन के  लिए प्रयोग किया जाता है। यार्न पैकेज को ड्रम या पॉट  के अंदर रखा जाता है। पैकेज को प्लेट के ऊपर रखा जाता है जो स्थिर रहता है। इस ड्रम या पॉट  में एक खोखली ट्यूब  लगाई जाती है। यह खोखली ट्यूब  एक स्पिंडल रोटर से जुड़ी होती है। स्पिंडल रोटर स्पिंडल ड्राइव से जुड़ा होता है। खोखली ट्यूब चीज़  की पेपर ट्यूब से होकर गुजरती है। इस  खोखले ट्यूब की ऊंचाई एक पेपर ट्यूब से अधिक होती है। सूत पहले सूत के प्रवेश छिद्र के माध्यम से एक खोखली ट्यूब  में प्रवेश करता है। यार्न एंट्री होल एक खोखले ट्यूब के शीर्ष के पास स्थित होता है। यार्न एक खोखले ट्यूब के नीचे स्थित यार्न निकास छेद से निकलता है। अब, यह सूत एक घूर्णन सूत गाइड से होकर गुजरता है। इसके बाद, यह धागा टेक-अप रोलर्स निप के बीच से गुजरता है। अंत में, ड्रम वाइंडिंग सिस्टम द्वारा कोन के ऊपर  यार्न को वाइंड किया जाता है ।

जैसे ही स्पिंडल रोटर कोणीय गति प्राप्त करता है, स्पिंडल रोटर से जुड़ी खोखली ट्यूब बहुत तेज गति से घूमने लगती है। खोखले ट्यूब के प्रत्येक चक्कर  में एक टर्न ऑफ़ ट्विस्ट  यार्न में पद जाता  है। जैसे ही धागा घूमने वाले धागे के गाइड से गुजरता है, धागे में एक और टर्न ऑफ़ ट्विस्ट पड़ जाता है। टेक-अप रोलर यार्न को निरंतर आगे की ओर खींचता है। इसके बाद, वाइंडिंग  प्रणाली एक शंकु या चीज़ के ऊपर यार्न को वाइंड कर देती है। जब यार्न बहुत तेज गति से एक घूमने वाला  यार्न गाइड से गुजरता है, तो गुब्बारे का निर्माण होता है। यार्न सेपरेटर का उपयोग साइड स्पिंडल यार्न के साथ यार्न को उलझाने से बचाने  के लिए किया जाता है।

इस मशीन में, खोखले ट्यूब के एक चक्कर में दो टर्न्स ऑफ़ ट्विस्ट  सूत में डाले जाते  है। इस मशीन की उत्पादकता बहुत अधिक होती  है। डबल यार्न की बेहतर गुणवत्ता भी इस प्रक्रिया में प्राप्त होती  है

No comments:

Post a Comment

Featured Post

फ्रिक्शन स्पिनिंग विधि, मुख्य विशेषताएं, सीमाएं, बुनियादी संरचना और फ्रिक्शन स्पिनिंग मशीन का कार्य सिद्धांत (Friction spinning method, main features, limitations, basic structure and working principle of friction spinning machine )

 फ्रिक्शन स्पिनिंग  विधि, मुख्य विशेषताएं, सीमाएं, बुनियादी संरचना और फ्रिक्शन स्पिनिंग  मशीन का कार्य सिद्धांत फ्रिक्शन स्पिनिंग क्या है? ....