Friday, July 16, 2021

इनडाइरेक्ट या सेक्शनल वार्पिंग प्रोसेस l इनडाइरेक्ट या सेक्शनल वार्पिंग मशीन की संरचना और कार्य सिद्धांत (Indirect or sectional warping process , structure and working principle of sectional warping)

Please click on the below link to read this article in English:

SECTIONAL WARPING PROCESS l STRUCTURE AND WORKING PRINCIPLE OF SECTIONAL WARPING MACHINE

इनडाइरेक्ट या सेक्शनल वार्पिंग प्रोसेस:

वार्पिंग की इस पद्धति में, वार्प एंड्स  को पहले वार्पिंग  ड्रम पर लपेटा जाता है और फिर वीवर  बीम पर स्थानांतरित किया जाता है। इस वार्पिंग प्रोसेस  विधि का उपयोग मल्टीप्लाइज यार्न , बहुरंगी ताने, सतत फिलामेंट धागों की वार्पिंग करने के लिए  किया जाता है। इस मशीन में सिंगल प्लाई का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। चूंकि वार्प एंड्स को वार्पिंग ड्रम के ऊपर नंबर ऑफ़ सेक्शंस के रूप में लपेटा जाता है , इसलिए यार्न के कम यार्न पैकेजेस होने पर भी इस मशीन के ऊपर सिंगल प्लाई यार्न से वार्प बीम बनाना संभव हो जाता है। आवश्यक ताना लंबाई बहुत कम होने पर यह सेक्शनल वार्पिंग बहुत  अधिक उपयोगी होती है।

इनडाइरेक्ट या सेक्शनल वार्पिंग  मशीन की संरचना और कार्य सिद्धांत:

 इनडाइरेक्ट या सेक्शनलवारपिंग मशीन के सामान्य भाग और उनके कार्य नीचे वर्णित किये गए  हैं:

क्रील:

यार्न पैकेज क्रील पर लगे होते हैं। यह वार्पिंग मशीन का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा होता  है। क्रील  गोल या चौकोर सेक्शन  पाइप और लोहे के चैनलों का एक फ्रेम होता  है। कोन होल्डर्स को  क्रील  के दोनों ओर ऊर्ध्वाधर स्तंभों में व्यवस्थित किया जाता है क्रील  के दोनों ओर कोन होल्डर्स  के 50 स्तंभ इनडाइरेक्ट या सेक्शनलवारपिंग मशीन की क्रील  में लगे होते हैं। इनडाइरेक्ट या सेक्शनल के क्रेल में प्रत्येक पक्ष में 8 पंक्तियाँ होती हैं। कॉलम की संख्या क्रील की  क्षमता की आवश्यकता के अनुसार बदलती रहती है। इस क्रील  में, क्रील  के बाहर से कोन होल्डर्स पर यार्न पैकेज लगाए जाते हैं। क्रील  पर यार्न पैकेज लोड करने के बाद, क्रील  के स्टैंड 180 डिग्री पर घुमा दिए जाते  हैं। प्रत्येक वार्प एन्ड के लिए क्रील  में यार्न गाइड और एक टेंशनर फिट  किया जाता है। ये लोहे के फ्रेम पर लगे होते हैं जो हाथ के पहिये या इलेक्ट्रिक मोटर को घुमाकर दूर या पास लाये  जा सकते हैं। पैकेज से आने वाला यार्न सबसे पहले सिरेमिक यार्न गाइड से होकर गुजरता है फिर यार्न टेंशनर से होकर गुजरता है।

टेंशनर का मुख्य कार्य यार्न को पर्याप्त मात्रा में तनाव प्रदान करना होता  है। आम तौर पर इनवर्टेड  कप और डेड वेट वॉशर टाइप  के टेंशनर का उपयोग इनडाइरेक्ट या सेक्शनल मशीन में किया जाता है। वाशरों की संख्या और उनका वजन इनडाइरेक्ट या सेक्शनल वार्पिंग  प्रक्रिया में इस्तेमाल होने वाले सूत की काउंट  पर निर्भर करता है। जैसे-जैसे मोटे से यार्न की काउंट  महीन होती जाती है, वाशर की संख्या कम होती जाती है, यदि आवश्यक हो तो उसका वजन भी कम किया जाता है। स्वचालित क्रील  में, सभी टेंशनर का तनाव एक तंत्र द्वारा कम या बढ़ाया जाता है, जो एक इलेक्ट्रिक मोटर द्वारा संचालित होता है। अब वार्प एंड्स  कई सिरेमिक गाइडों से होकर गुजरते   हैं जो एक दूसरे से समान दूरी पर व्यवस्थित होते हैं। सेरेमिक गाइड्स के बीच की दूरी क्रील  की लंबाई पर निर्भर करती है। इन गाइडों का मुख्य उद्देश्य प्रत्येक वार्प एन्ड  को अलग- अलग  रखना और वार्पिंग के दौरान एन्ड टू एन्ड उलझाव को रोकना होता  है। इन गाइड का दूसरा उद्देश्य प्रत्येक वार्प एन्ड को पर्याप्त सपोर्ट प्रदान करना होता  है। वार्पिंग के दौरान धागों को अपर्याप्त सपोर्ट  के कारण सूत की शिथिलता की समस्या पैदा होती है क्योंकि ज्यादा  लंबाई के धागे अपने वजन के कारण शिथिल होने का प्रयास करते हैं। इस प्रकार वार्प एन्ड  को वार्पिंग  होने के दौरान पर्याप्त समर्थन की जरूरत होती है। अब वार्प एन्ड  इलेक्ट्रिक  ड्रॉप वायर से होकर गुजरता  है। इसका उद्देश्य वार्प एंड्स के टूटने की स्थिति  में  मशीन को तुरंत रोकना होता है। क्रील  पूरी तरह से स्वचालित वार्प ब्रेक स्टॉप मोशन से लैस होती  है। प्रत्येक पंक्ति पर इंडिकेशन लैम्प्स क्रील  में फिट  किए जाते हैं जब भी कोई वार्प एन्ड ब्रेकेज  होता है तो इंडिकेशन लैम्प तुरंत ऑन हो जाता है और मशीन बंद हो जाती है। ये इंडिकेशन  लैंप ऑपरेटर को क्रील  में टूटे हुए वार्प एन्ड  की सही स्थिति की पहचान करने में मदद करते हैं।

सेपटर्स रोड्स:

ड्रॉप वायर से निकलने वाले वार्प एंड्स  विभाजक छड़ों के बीच से गुजरते हैं। पहली शीर्ष पंक्ति के सिरे शीर्ष विभाजक छड़ के नीचे से गुजरते हैं। अन्य पंक्तियों के सिरों को क्रमशः पंक्ति की संख्या के अनुसार विभाजक छड़ से गुजारा जाता है।


सेपरेटर रॉड वार्प एंड्स को एक-दूसरे से उलझने से रोकने में मदद करता है और ऑपरेशन के दौरान वार्प एंड्स की सुचारू गति करता है। यह सिंगल प्लाई यार्न के बहुरंगी वार्प  की वर्पिंग  में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जिसके लिए साइज़िंग की आवश्यकता होती है। इन विभाजक छड़ों की सहायता से वार्प शीट के पृथक्करण लॉसेस  को डाला जाता है।

लीज रीड:

यह विभाजक छड़ के ठीक बाद स्थित है होती । इसका कार्य लीज  डालने में मदद करना है (लीज  में दो तार होते हैं)। सभी विषम संख्या बाले वार्प एंड्स  पहली स्ट्रिंग के ऊपर से गुजरती हैं और सम संख्यावाले वार्प एंड्स इसके नीचे से गुजरती हैं। अब विषम संख्या बाले वार्प एंड्स  अपनी स्थिति बदलते हैं और दूसरे तार के नीचे से गुजरते हैं। सम संख्या बाले वार्प एंड्स  भी अपनी स्थिति बदलते हैं और दूसरी स्ट्रिंग के ऊपर से गुजरते हैं)।

यह रीड इस तरह से डिज़ाइन किया गया है कियह रिड  वार्प एंड्स  को दो परतों में विभाजित कर देता है, जब इसे गिराया  या उठाया जाता है। इसे उठाने या गिराने  के लिए एक वायवीय सिलेंडर का उपयोग किया जाता है। कुछ मशीनों में दांतेदार रैक, गियर और इलेक्ट्रिक मोटर यह क्रिया करते हैं।

फ्लैट या वी-रीड और इसकी माउंटिंग टेबल:

यार्न अब फ्लैट या वी-आकार के रीड  के डेंट से होकर गुजरता है। इसकी मुख्य भूमिका वार्प एंड्स को एक दूसरे के समानांतर रखना होता है। यह सभी वार्प एंड्स  के बीच समान स्थान भी बनाए रखता है। वीवर  बीम में प्रति इंच वार्प एंड्स की संख्या रीड  की काउंट  और इस्तेमाल किए गए डेंटिंग क्रम पर निर्भर करती है।

यह रीड, रीड टेबल  पर लगा होता है जो टेबल  के एक तरफ लगे हाथ के पहिये को घुमाकर बाएँ और दाएँ दिशा में घूम सकता है। जब भी फ्लैट ररेड  का उपयोग किया जा रहा हो, तब सेक्शन  की चौड़ाई को समायोजित करने के लिए रीड को निश्चित कोण पर घुमाया जा सकता है। जब v - आकार की रीड का उपयोग किया जाता है, तो रीड का  समायोजन  अडजस्टेबल रोड को घुमाकर  होता है

गाइड रोलर्स:

वार्प एंड्स  अब दो गाइड रोलर्स के बीच से गुजरता है। ये रोलर्स स्टेनलेस स्टील, टेफ्लॉन या वैकलाइट फाइबर शीट से बने होते हैं। इन रोलर्स पर लंबाई के दिशा  में  ग्रोव बनाए जाते हैं जो सेक्शन में वार्प एंड्स  को फैलाने में मदद करते हैं।

ये रोलर्स सकारात्मक रूप से संचालित नहीं होते हैं। यार्न तनाव इन रोलर्स को घुमाने में मदद करता है।

वारिंग ड्रम:

यह एक धातु ड्रम  होता है। इसका व्यास मशीन के निर्माण के अनुसार 2.5 से 3.0 मीटर तक भिन्न होता है। ड्रम की लंबाई  आवश्यक अधिकतम बीम चौड़ाई के अनुसार भिन्न  भिन्न होती है। ड्रम को  एक तरफ शंक्वाकार आकार में बनाया जाता है। शंकु की लंबाई 1100 - 1200 मिमी से भिन्न होती है।

 ड्रम के शंक्वाकार हिस्से की सतह को खुरदुरा बनाया जाता है ताकि वर्पिंग के दौरान सूत न फिसले। वर्पिंग  की प्रक्रिया के दौरान ड्रम इलेक्ट्रिक मोटर द्वारा घड़ी की  दिशा में घूमता है।


हाइड्रोलिक डिस्क या ड्रम ब्रेक:

मशीन के रुकने की स्थिति में उच्च गति से घूमने वाले ड्रम की गति को तेजी से रोकना  वारिंग मशीन में ब्रेक का मुख्य कार्य होता है । मशीन में दो तरह के ब्रेक का इस्तेमाल किया जाता है। ड्रम ब्रेक सिस्टम में, ब्रेक ड्रम को वारिंग ड्रम के शाफ्ट पर लगाया जाता है। यह वर्पिंग ड्रम के साथ घूमता है। एक ब्रेक बेल्ट ब्रेक ड्रम पर टिकी होती है। बेल्ट का एक सिरा स्थिर होता है और दूसरा सिरा हाइड्रॉलिक रूप से संचालित आर्म से जुड़ा होता है। जब मशीन रुकती है, तो आर्म ब्रेक बेल्ट को खींचती है और ब्रेक ड्रम पर दबाव डालती है। इस प्रकार मशीन तुरंत बंद हो जाती है। यह ब्रेकिंग सिस्टम बीमिंग प्रक्रिया के दौरान वार्प को तनाव भी प्रदान करता है। डिस्क ब्रेक सिस्टम में, ड्रम के प्रत्येक तरफ ड्रम शाफ्ट पर दो ब्रेक डिस्क ललगाए जाते  हैं। प्रत्येक डिस्क पर ब्रेक शूज़ भी लगे होते हैं। ये ब्रेक शू हाइड्रोलिक रूप से संचालित होते हैं।

जब मशीन रुकती है, ब्रेक शू तुरंत कार्य करता है और डिस्क को पकड़ लेता है। इस प्रकार मशीन तुरंत बंद हो जाती है। यह बीमिंग प्रक्रिया के दौरान तनाव भी प्रदान करता है।

ड्रम ट्रैवर्सिंग गति:

पूरी मशीन ट्रैवर्स रेल के ऊपर लगी होती है। मशीन में चार पहिए लगे होते  हैं जो मशीन को बाएँ और दाएँ दिशा में चलने योग्य बनाते हैं। ड्रम में ट्रैवर्स मोशन करने के लिए एक गियरिंग सिस्टम और इलेक्ट्रिक मोटर का उपयोग किया जाता है। जब यार्न कोन ड्रम के ऊपर वाइंड किया जाता है, तो ड्रम सेक्शन  के शंक्वाकार आकार को प्राप्त करने के लिए धीरे-धीरे बाईं दिशा में चलता है। एक स्क्वायर थ्रेडेड शाफ्ट गियरिंग और ड्रम के साथ इलेक्ट्रिक मोटर के माध्यम से घूमता है। यह शाफ्ट वर्पिंग  के दौरान ड्रम को बायीं दिशा में ले जाता है। इस थ्रेडेड शाफ्ट के एक छोर पर एक इलेक्ट्रॉनिक एनकोडर लगाया जाता है जो सेक्शन के शुरू से सेक्शन के अंत तक शाफ्ट के रोटेशन की गणना करता है। जब सेक्शन पूरा हो जाता है, तो मशीन रीसेट पुश बटन दबाकर बाईं दिशा में चली जाती है। मशीन सही दिशा में तय की गई दूरी के बराबर दूरी और सेक्शन की चौड़ाई के बराबर दूरी तय करती है।

वैक्सिंग डिवाइस:

यह एक वैकल्पिक उपकरण  होता है लेकिन प्रक्रिया के दौरान वार्प यार्न की गुणवत्ता में सुधार के लिए बहुत उपयोगी होता है। यह वर्पिंग  ड्रम और बीमिंग सिस्टम के बीच स्थित होता  है। इस उपकरण में तीन रोलर्स का उपयोग किया जाता है। यार्न पर लगाए जाने वाले रसायन को भरने के लिए स्टील ट्रे का उपयोग किया जाता है। बीच का रोलर ट्रे के ऊपर लगा होता है।

मध्य रोलर का लगभग आधा भाग ट्रे में डूबा रहता है। अन्य दो रोलर्स केवल ताना सूत का मार्गदर्शन करते हैं। मध्य रोलर के एक छोर पर एक चेन स्प्रोकेट लगा होता है जो इलेक्ट्रिक मोटर के माध्यम से घूर्णी गति प्राप्त करता है। मध्य रोलर की गति को एसी ड्राइव द्वारा नियंत्रित किया जाता है। जब किसी भी तरल रसायन को ताना पर लगाया जाता है, तो तरल रासायनिक ट्रे में भर दिया जाता  है। यार्न की विपरीत दिशा में घूमने वाला मध्य रोलर ताना की सतह से स्पर्श करता है। रोलर की सतह तरल को उठाती है और इसे यार्न की सतह पर लगाती  है। लगाए  जाने वाले रसायन की मात्रा को मध्य रोलर की गति को समायोजित करके नियंत्रित किया जाता है।

बीमिंग सिस्टम:

जब वर्पिंग  पूरी हो जाती है, तो वार्प को वीवर  बीम पर स्थानांतरित करने की आवश्यकता होती है। ड्रम से वीवर  बीम में वार्प  के इस स्थानांतरण को बीमिंग प्रक्रिया कहा जाता है। बीमिंग सिस्टम में मुख्य रूप से बीम लोडिंग व्यवस्था और बीम ट्रैवर्सिंग व्यवस्था और बीम ड्राइव तंत्र शामिल होते  हैं। लोडिंग सिस्टम के माध्यम से खाली बीम को बीमिंग सिस्टम पर लगाया जाता है। मशीन के प्रत्येक पक्ष में एक लोहे का फ्रेम स्लाइड रेल के ऊपर स्लाइड करता है। इन फ़्रेमों को मशीन की चौड़ाई में फिट किए गए स्क्वायर थ्रेडेड शाफ्ट की सहायता से बाएँ और दाएँ दिशा में ले जाया जाता है। जब यह शाफ्ट लोहे के फ्रेम से जुड़े थ्रेडेड ब्रैकेट में घूमता है, तो यह लोहे के फ्रेम को बाएं और दाएं दिशा में ले जाता है। बाईं ओर के फ्रेम को हाथ के पहिये से भी घुमाया जा सकता है जो गियर की मदद से दांतेदार रैक पर चलता है। बीम के प्रत्येक तरफ लगे एडॉप्टर्स को खोखले शाफ्ट में प्रवेश करा दिया  जाता है। इन शाफ्ट को हाइड्रोलिक दबाव द्वारा आवश्यकता के अनुसार उठाया या गिराया जा सकता है। बाईं ओर का खोखला शाफ्ट स्वतंत्र रूप से घूमता है लेकिन दाईं ओर के शाफ्ट में सकारात्मक ड्राइव होती है। यह शाफ्ट बीमिंग के दौरान बीम को घुमाता है। यह शाफ्ट एक इलेक्ट्रिक मोटर और एक रिडक्शन  गियर बॉक्स के माध्यम से घूर्णी गति प्राप्त करता है। यह शाफ्ट एक सार्वभौमिक जोड़ के माध्यम से गियर बॉक्स से जुड़ा होता  है जो लिफ्ट के दौरान स्वचालित रूप से संरेखण बनाए रखता है

फुल वार्प लेंथ स्टॉप मोशन:

 यह पूरी तरह से इलेक्ट्रॉनिक रूप से नियंत्रित प्रणाली है। वॉरपिंग ड्रम के शाफ्ट पर एक शाफ्ट एनकोडर लगाया जाता है जो वॉरपिंग ड्रम के चक्करो को गिनता  है। एक नियंत्रण प्रणाली  ड्रम के घूर्णन को मीटर में स्वचालित रूप से लंबाई में परिवर्तित करता है। जब ताना की लंबाई पूरी हो जाती है, तो मशीन कुछ मीटर की ताना लंबाई से पहले अपने आप रुक जाती है। अब मशीन धीमी गति मोड में आती है और शेष ताना लंबाई के रैपिंग को पूरा करती है और स्थिर हो जाती है। ब्रेक फेल होने की संभावना के दौरान यह प्रणाली अधिक उपयोगी होती है।

मल्टी लीज स्टॉप मोशन:

यह डिजिटल नियंत्रित गति है। यह गति एक वार्प बीम में एक से अधिक लीज (मल्टी लीज) डालने में मदद करती है। मान लीजिए कि हमें तीन छोटे वार्प बीम बनाना है, मान लीजिए 600 मीटर प्रत्येक बीम की लंबाई है । वर्पिंग  के दौरान हम 1800 मीटर की बीम बनाते हैं। हम शुरुआत में और प्रत्येक 600 मीटर की ताना लंबाई के बाद लीज  को डालते  हैं। जब हम शुरुआती लीज डालने के बाद मशीन शुरू करते हैं, तो मशीन 600 मीटर ताना लपेटने के बाद अपने आप रुक जाती है। अब दूसरी लीज डाली जाती  है और मशीन को फिर से चालू किया गया है। अब मशीन 600 मीटर ताना लपेटने के बाद फिर से रुक जाती है। ऑपरेटर तीसरे और अंतिम लीज को ताना में डालता है और मशीन को फिर से चालू करता है। बीमिंग के दौरान, ये तीन वार्प बीम अलग हो जाते हैं। इस प्रकार प्रत्येक बीम में एक लीज  पड़ जाती  है और प्रक्रिया में समय की बचत होती है।

हाइड्रोलिक दबाव प्रणाली:

बीम को ऊपर और नीचे लाने के लिए दबाव उत्पन्न करने के लिए हाइड्रोलिक प्रेशर डिवाइस का उपयोग किया जाता है, दबाव बीमिंग के दौरान ताना को भी तनाव प्रदान करता है। हाइड्रोलिक दबाव बीम की कॉम्पैक्टनेस को नियंत्रित करता है। हाइड्रोलिक दबाव मशीन के रुकने की स्थिति में घूमने वाले ड्रम की गति को तोड़ देता है। आम तौर पर एक घनाकार आकार के तेल टैंक का उपयोग किया जाता है जो मशीन के एक तरफ स्थित होता है। 68 नंबर इस टैंक में हाइड्रोलिक तेल भरा जाता है। इस तेल टैंक पर एक गियर वाला तेल पंप लगाया जाता है। तेल पंप तेल के अंदर में डूबा  रहता है। तेल, तेल फिल्टर के माध्यम से तेल पंप में प्रवेश करता है जो तेल को फ़िल्टर करता  रहता है। पंप का शाफ्ट इलेक्ट्रिक मोटर से जुड़ा होता है।

यह मोटर तेल पंप को घुमाती है। तेल पंप का आउटलेट दबाव वितरण व्यवस्था से जुड़ा हुआ होता  है। इस वितरण व्यवस्था में चुंबकीय वाल्व, दबाव नियामक और तेल पाइप  शामिल होते हैं हैं। चुंबकीय वाल्व आवश्यकता के अनुसार विभिन्न बिंदुओं पर तेल की आपूर्ति को चालू और बंद करने में मदद करते हैं। बीमिंग के दौरान एक नियामक का उपयोग करके दबाव को काम या अधिक किया जाता है। दाब के वास्तविक मान को पढ़ने के लिए दाब मीटर का प्रयोग किया जाता है। पुश बटन का उपयोग बीम को उठाने या गिराने  के लिए किया जाता है। यह एक एकीकृत एसी इन्वर्टर ड्राइव है। यह ड्राइव तीन इलेक्ट्रिक मोटर (वारपिंग मोटर, बीमिंग मोटर और मशीन ट्रैवर्सिंग मोटर) संचालित करती है। इस ड्राइव द्वारा वारपिंग और बीमिंग की गति को नियंत्रित किया जाता है। वार्पिंग  प्रक्रिया के दौरान, आवश्यक वार्पिंग  गति को मॉनिटर में दर्ज किया जाता है। बीमिंग प्रक्रिया के दौरान, मशीन में एक नॉब का उपयोग करके आवश्यक गति को बढ़ाया या घटाया जाता है।

सिग्नल लैंप:

सिग्नल लैंप मशीन के बाईं ओर स्थित है। इस लैम्प में तीन प्रकार की लाइटों का प्रयोग किया जाता है। ग्रीन लैंप का अर्थ है प्रक्रिया के तहत वार्पिंग करना या बीमिंग  करना।

लाल बत्ती इंगित  करती है कि मशीन ताना टूटने या मैनुअल स्टॉप के लिए बंद  है। सफेद लैंप सक्षम करता है कि सेक्शन  की लंबाई पूरी हो गई है।

मॉनिटर:

 यह मशीन के दाईं ओर स्थित होता है। इसमें एक डिस्प्ले और की बोर्ड लगा होता है। इस मॉनीटर में सभी बीम  पैरामीटर और मशीन पैरामीटर फीड किए जाते हैं। यह कंट्रोल पैनल को डिजिटल सिग्नल भेजता है।

यदि ऑपरेशन के दौरान किसी प्रकार की त्रुटि होती है, जो इस डिस्प्ले में दिखाई देती है। यह ऑपरेटर को सभी परिचालन जानकारी प्रदान करता है।

प्रोग्राम लॉजिक कण्ट्रोल सिस्टम:

इसे मशीन का दिमाग भी कहा जाता है। यह मशीन का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है। सभी स्वचालित कार्य इस उपकरण द्वारा किए जाते हैं। यह पूरी तरह से इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस होती है। यह विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक सेंसर, लिमिट  स्विच, शाफ्ट एन्कोडर, इन्वर्टर ड्राइव और हाइड्रोलिक दबाव नियंत्रण इकाई से सभी इनपुट प्राप्त करता है और मशीन की विभिन्न नियंत्रण इकाइयों को डिजिटल सिग्नल भेजता है। पीएलसी डिवाइस से प्राप्त कमांड के अनुसार मशीन चालू और बंद हो जाती है।

सेक्शनल वार्पिंग के दौरान सावधानियां:

सेक्शनल वार्पिंग  प्रक्रिया के दौरान निम्नलिखित सावधानियां बरतनी चाहिए:

• प्रत्येकवार्प एन्ड  पर तनाव समान और पर्याप्त होना चाहिए।

• क्रील को कभी भी लोड करने से पहले  संपीड़ित हवा से साफ किया जाना चाहिए।

• पैकेज का आकार बराबर होना चाहिए। पैकेजों में आकार का अंतर सिरों पर असमान तनाव पैदा करता है।

• पैकेज और यार्न गाइड के बीच की दूरी उचित और पर्याप्त होनी चाहिए ताकि पैकेज से यार्न को खोलने के दौरान गुब्बारे को बनने से रोका जा सके।

• विद्युत स्टॉप मोशन का प्रभावी संचालन हमेशा सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

• स्टॉप मोशन और लीज रीड के बीच की दूरी पर्याप्त होनी चाहिए। यदि यह बहुत कम है, तो यह अनावश्यक वार्प एंड्स टूटने का कारण बन सकता है। यदि यह दूरी बहुत अधिक है, तो यह ताना में अत्यधिक शार्ट एंड्स और धागो के उलझाव का कारण बन सकता है जिसके परिणामस्वरूप वार्प एंड्स ब्रेअकाजेस  हो सकता है।

• लीज रीड और फ्लैट रीड या वी-शेप रीड के बीच की दूरी कम से कम करने के लिए सही होनी चाहिए 

रीड पर एंड्स  टूटना।

• गियर्स का चयन यथासंभव सटीक होना चाहिए। गलत गियर चयन के परिणामस्वरूप ताना बीम की अनुचित शंकु ऊंचाई होती है, इस प्रकार एक तरफ बीम का व्यास कम या बढ़ जाता है। व्यास में यह भिन्नता कपड़े में बोइंग  के रूप में परिणत होती है।

• प्रक्रिया के दौरान वार्पिंग की गति को नहीं बदला जाना चाहिए, प्रक्रिया के दौरान गति परिवर्तन से सेक्शन की लंबाई या ताना का तनाव बदल सकता है।

• यदि संभव हो तो सभी सेक्शंस में समान संख्या में वार्प एंड्स  होने चाहिए।

• सेक्शन  की चौड़ाई सही ढंग से सेट की जानी चाहिए। यदि सेक्शन की चौड़ाई आवश्यकता से कम है, तो आसन्न सेक्शंस  के बीच अंतर होगा और इन स्थानों पर ताना ढीला हो जाएगा। यदि यह आवश्यकता से अधिक है, तो वार्प एंड्स   ओवरलैप हो  जायेगे और यह बीमिंग के दौरान ेंडा ब्रेअकाजेस  पैदा करेगा।

• ताना के दौरान बीम में कोई शार्ट एन्ड नहीं जाना चाहिए। बीमिंग के दौरान शॉर्ट एंड लैपर और वार्प ब्रेअकाजेस पैदा करता है।

• मशीन को पीछे की दिशा में घुमा  कर हर शार्ट एन्ड की मरम्मत की जानी चाहिए।

• मशीन के संचालन से पहले कुशल संचालन सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

• हाइड्रोलिक प्रणाली में तेल का स्तर ठीक से बनाए रखना चाहिए ।

• ब्रेकिंग सिस्टम के डिस्क और ब्रेक शू को सीटीसी या अन्य सॉल्वेंट से साफ किया जाना चाहिए।

• यदि आवश्यक हो तो मोम, कोल्ड बाइंडर या एंटीस्टेटिक तेल का उपयोग करना चाहिए।

• बीमिंग टेंशन को ठीक से चुना जाना चाहिए। बीम न तो अधिक कॉम्पैक्ट और न ही अधिक ढीली होनी चाहिए।

• अत्यधिक बीमिंग तनाव यार्न में विकृति पैदा कर सकता है।

• बीम में एक फ्लैंज से दूसरे फ्लैंज की  दूरी सही ढंग से सेट किया जाना चाहिए।

• बीम की चौड़ाई करघे में उपयोग किए जाने वाले रीड स्पेस  से दो सेंटीमीटर अधिक होनी चाहिए।

• ताना बैरल के केंद्र में बीम पर वाइंड  होना चाहिए।

• फ्लैज्स को ठीक से टाइट किया  जाना चाहिए।

• वार्प एंड्स  क्रॉसिंग समस्या को रोकने के लिए लीज को  सही ढंग से डाला जाना चाहिए।

• फ्लैट या वी-आकार के रीड में प्रति डेंट के वार्प एंड्स  की संख्या यथासंभव न्यूनतम होनी चाहिए। इस रीड में प्रति डेंट की अधिक संख्या रोलिंग के रूप में परिणत होती है। यह रोलिंग करघे पर ताने के खुलने  के दौरान क्रॉसिंग समस्या पैदा करता है।

• मशीन के खाली चला कर से मशीन का उचित संचालन सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

• वार्प स्टॉप मोशन के इलेक्ट्रोड को समय-समय पर साफ किया जाना चाहिए।

• वार्पिंग  ड्रम के शंकु के आकार के हिस्से की सतह की खुरदरापन को ठीक से बनाए रखा जाना चाहिए। यदि यह चिकना हो जाता है, तो इस तरफ के सेक्शन का फिसलन हो सकता है।

No comments:

Post a Comment