Monday, May 31, 2021

रैपियर वेफ्ट इंसर्शन सिस्टम l रैपियर लूम के प्रकार l वेफ्त यार्न पैसेज और रैपियर वेफ्ट इंसर्शन सिस्टम का कार्य सिद्धांत

 

 


रैपियर लूम वेफ्ट  इंसर्शन सिस्टम:

यह सबसे बहुमुखी  वेफ्ट इंसर्शन सिस्टम होता  है। इस लूम पर वेफ्ट यार्न काउंट की  एक बहुत विस्तृत सीमा होती  है। आप बड़ा बदलाव किए बिना बहुत मोटे से बहुत महीन धागे में  वेफ्ट के रूप में डाल सकते हैं। वेफ्ट इंसर्शन के  दौरान बाने के धागे की यात्रा लगातार नियंत्रित होती जाती है। कपड़े की चौड़ाई को मशीन के  स्पेसिफिकेशन्स की  सीमा के भीतर समायोजित किया जा सकता है। कपड़ा उद्योग में रैपियर लूम  का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। बाने के रंगों की संख्या 8 से 16 के बीच होती है।

रैपियर लूम  का वर्गीकरण:


एक रैपियर लूम को इस्तेमाल किए गए वेफ्ट  इंसर्शन मैकेनिज्म के अनुसार निम्न वर्गों में वर्गीकृत किया जा सकता है।

सिंगल रैपियर लूम:


वह रैपियर लूम जिसमें शेड में बाने के धागे को डालने के लिए केवल एक रैपियर का उपयोग किया जाता है, सिंगल रैपियर लूम कहलाता है। रैपियर की तय की गई दूरी लूम  में इस्तेमाल किए गए रीड स्पेस के बराबर होती  है। इस तरह का लूम  बहुत कम गति से काम करता है। वार्प यार्न  रैपियर पर उच्च दबाव डालता है।


डबल रैपियर लूम :


वह रैपियर लूम जिसमें दो रैपियर की मदद से शेड में वेफ्ट  इंसर्शन किया जाता है, इस प्रकार के लूम  को डबल रैपियर लूम के रूप में जाना जाता है। प्रत्येक रैपियर लूम  में प्रयुक्त रीड स्पेस  की  आधी दूरी तय करता है। डबल रैपियर लूम बहुत तेज गति से चलता है। रैपियर पर वार्प  के धागे का दबाव अधिकतम सीमा तक कम हो जाता है।


फ्लेक्सिबल रेपियर लूम :


इस तरह के लूम  में ग्रिपर्स को टेफ्लॉन और कार्बन फैब्रिक से बने लचीले रिबन या टेप पर लगाया जाता है। चूंकि रिबन की लंबाई डबल रैपियर लूम में उपयोग किए गए रीड स्पेस के लगभग बराबर होती है और प्रत्येक रिबन की लंबाई का लगभग आधा हिस्सा वेफ्ट  इंसर्शन के दौरान शेड में प्रवेश करता है ताकि रिबन की शेष आधी लंबाई होलो  रैपियर गाइड के अंदर वापस चली जाए। जब ग्रिपपेर्स स्ले सेण्टर की  स्थिति में पहुंच जाती है। यह शेष लंबाई वह लंबाई है जो बाने डालने के दौरान शेड में प्रवेश नहीं करती है। यह कार्य रैपियर रिबन के लचीलेपन के कारण संभव हो पाता है। लचीले रैपियर रिबन के उपयोग के कारण, इस प्रकार के लूम  को फ्लेक्सिबल  रैपियर लूम  कहा जाता है। यह लूम  रिजिड  रैपियर लूम की तुलना में अधिक आरपीएम पर चल सकता है। इस तरह के लूम  कम जगह घेरते हैं।

रिजिड रेपियर लूम :

यदि ग्रिपर्स को किसी रैपियर लूम में रिजिड  रैपियर रैक पर लगाया जाता है, तो इसे रिजिड  रैपियर लूम के रूप में जाना जाता है। रिजिड  रैपियर, फ्लेक्सिबल  रैपियर लूम की तुलना में धीमी गति से चलता है। रिजिड र रैपियर लूम, फ्लेक्सिबल  रैपियर लूम की तुलना में अधिक स्थान घेरता है।

नेगेटिव वेफ्ट  ट्रांसफर रैपियर लूम:

यदि वेफ्ट  टेंशन की मदद से रैपियर ग्रिपर्स के ग्रिपिंग जबड़ों के बीच वेफ्ट  यार्न को  पकड़ाया  जाता है और वेफ्ट  ट्रांसफर चक्र के दौरान प्रत्येक ग्रिपर के ग्रिपिंग जॉ को खोलने और बंद करने के लिए किसी भी  अतिरिक्त तंत्र का उपयोग नहीं किया जाता है, तो इस तरह के वेफ्ट  ट्रांसफर को नेगेटिव वेफ्ट ट्रांसफर  कहा जाता है। यदि वेफ्ट  इंसर्शन के दौरान लूम में नेगेटिव वेफ्ट  ट्रांसफर होता है, तो उस लूम को नेगेटिव वेफ्ट  ट्रांसफर रैपियर लूम कहा जाता है।

पॉजिटिव वेफ्ट  ट्रांसफर रैपियर लूम:

यदि वेफ्ट  ट्रांसफर के पूरे चक्र के दौरान प्रत्येक रैपियर के ग्रिपिंग जबड़ों को एक अतिरिक्त तंत्र की मदद से खोला और बंद किया जाता है, तो इस तरह के वेफ्ट  इंसर्शन को पॉजिटिव वेफ्ट  ट्रांसफर के रूप में जाना जाता है। पॉजिटिव वेफ्ट  ट्रांसफर से लैस लूम को पॉजिटिव वेफ्ट  ट्रांसफर रैपियर लूम कहा जाता है।

रैपियरलूम  में बाने के धागे का मार्ग:

वेफ्ट  पैकेज वेफ्ट  क्रील पर लगा होता है। उपयोग किए जा रहे बाने के धागों में रंगों की संख्या के अनुसार बाने के पैकेजों की संख्या का उपयोग किया जाता है। यार्न पहले थ्रेड गाइड से गुजरता है और इसके बाद  वेफ्ट  क्रील  पर लगे वेफ्ट  टेंशनर से गुजरता है। इसके बाद, वेफ्ट  यार्न वेफ्ट  एकुमुलेटर से होकर गुजरता है। यह वेफ्ट  एकुमुलेटर  स्थिर  तनाव पर यार्न की निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित करता है। जब बाने का पैकेज ख़त्म होने  की स्थिति के करीब पहुंच जाता है, तो यार्न का तनाव अधिकतम हो जाता है। वेफ्ट  एकुमुलेटर  इस प्रभाव को बेअसर करता है और पूरे पैकेज में बाने के तनाव को स्थिर रखता है। वेफ्ट  क्रील  पर लगा वेफ्ट  टेंशनर एकुमुलेटर  पर आसन्न यार्न कॉइल के ओवरलैपिंग को रोकता है। उपयोग किए गए वेफ्ट  एकुमुलेटर्स की संख्या बाने के धागे में इस्तेमाल होने वाले रंगों की संख्या के बराबर हो जाती है।

अब यार्न फिलिंग डिटेक्टर से होकर गुजरता है। फिलिंग डिटेक्टर में या तो सिंगल वेफ्ट  सेंसिंग चैनल या मल्टी वेफ्ट  सेंसिंग चैनल होते हैं। फिलिंग डिटेक्टर एक तरफ से दूसरी तरफ वेफ्ट  की पूरी यात्रा की निगरानी करता है। यदि वेफ्ट  इंसर्शन विफल हो जाता है या लंबाई में छोटा रह  जाता  है, तो यह लूम  को तुरंत बंद कर देता है। अगले क्रम में  वेफ्ट यार्न  थ्रेड गाइड से होकर गुजरता है जो बाने के धागों को अलग रखने में मदद करता है। यह विभिन्न बाने के धागों को आपस में उलझने से भी रोकता है। थ्रेड गाइड में कई सिरेमिक आईज  लगी  होती हैं।

अंत में, बाने का धागा वेफ्ट सिलेक्टर फिंगर  की आई  से होकर गुजरता है। नियंत्रण कंप्यूटर में वेफ्ट पैटर्न फीडिंग  के अनुसार वेफ्ट सिलेक्शन फिंगर का चयन होता है।

रैपियर वेट इंसर्शन सिस्टम का कार्य सिद्धांत:

बाने के  धागे को  कैच सेल्वेज पकड़ कर रखता  है।इस कैच को सेल्वेज बनाने के लिए दस से बीस धागो  का इस्तेमाल किया जाता है। धागो  को या तो एक अलग रील पर लपेटा जाता है या एक कैच सेल्वेज क्रील  का उपयोग किया जाता है जिसमें आवश्यक छोटे यार्न पैकेज लगाए जाते हैं। कैच सेल्वेज में हमेशा प्लेन वीव  का उपयोग किया जाता है। रीड  के एक सिरे  के बहुत करीब टेम्पल  के ब्रैकेट पर लगाई गई एक कैच प्लेट, बाने के धागे को रीड की ओर जाने से रोकती है।

जब रीड आखिरी डाली गई पिक को बीत कर  देता है, तो एक नया वेफ्ट  इंसर्शन चक्र शुरू होता है। सबसे पहले, वेफ्ट  सिलेक्टर फिंगर  गिरती है, और वेफ्ट  यार्न इंसर्ट ग्रिपर के सामने आता है। बाने का धागा रैपियर गाइड को टच करने लगता  है 

रैपियर स्ले  सेंटर की ओर यात्रा करना शुरू कर देता है और रिसीविंग रैपियर भी स्ले  सेंटर की ओर यात्रा करना शुरू कर देता है। रिसीविंग  रैपियर पहले चलना शुरू करता है। जब ग्रिपर वेफ्ट  यार्न के नीचे से गुजरता है, तो यार्न इंसर्ट ग्रिपर के स्लॉट में प्रवेश कर जाता है। ग्रिपर के ग्रिपिंग प्रेशर  को इस तरह से समायोजित किया जाता है कि यह इंसर्ट ग्रिपर के ऊपरी और निचले ग्रिपिंग जबड़ों के बीच वेफ्ट  यार्न में प्रवेश करने में सहायता  करता  है। यार्न टेंशनर को समायोजित करके एक उपयुक्त वेफ्ट  यार्न टेंशन भी प्राप्त किया जाता है। बाने का धागा कम से कम ग्रिपिंग जबड़ों के बीच तक पहुंचना चाहिए। इंसर्ट रैपियर के ग्रिपिंग जबड़ों के बीच कोई यार्न स्लिपेज नहीं होना चाहिए। जब इंसर्ट ग्रिपर शेड में प्रवेश करना शुरू करता है, तो फिलिंग कटर बाने के धागे को काट देता है। रैपियर गाइड के एक छोर पर इंसर्ट रैपियर के प्रवेश बिंदु के पास एक वेट यार्न सपोर्ट गाइड लगा होता है। यह यार्न गाइड रीड और वेफ्ट  यार्न के बीच एक आवश्यक गेप  बना कर रखता  है। यह रीड की क्षति को भी रोकता है।

दोनों रेपियर स्ले  सेंटर की ओर यात्रा करते हैं। रिसीविंग रैपियर सबसे पहले स्ले  सेंटर पर पहुंचता है और वहां ड्वेल  पीरियड में  रेस्ट करता  है। रिसीविंग रैपियर इंसर्ट ग्रिपर से वेफ्ट  यार्न प्राप्त करने के लिए तैयार हो जाता है और वह वहीं इंतजार करता है। अब इंसर्ट रैपियर स्ले  सेंटर तक पहुंचता है और इंसर्ट ग्रिपर में जकड़ा हुआ धागा रिसीविंग ग्रिपर के हुक  की नोक को पार कर जाता  है। सेटिंग के दौरान रिसीविंग ग्रिपर के हुक की नोक और वेफ्ट यार्न  के बीच में  तीन मिमी की गैप  सुनिश्चित की जाती है। जैसे ही इंसर्ट ग्रिपर ड्वेल पीरियड में आता है, रिसीविंग ग्रिपर फैब्रिक सेल्वेज की ओर बढ़ना शुरू कर देता है। रिसीविंग ग्रिपर का हुक इन्सर्ट  ग्रिपर से बाने के धागे को खींचता है। चूंकि रिसीविंग ग्रिपर में इंसर्ट ग्रिपर की तुलना में थोड़ा अधिक ग्रिपिंग प्रेशर होता है, जिससे यार्न रिसीविंग ग्रिपर के ग्रिपिंग  जबड़ों के बीच प्रवेश कर जाता है। इंसर्ट ग्रिपर भी अपनी ड्वेल  की अवधि बीतने के बाद फैब्रिक सेल्वेज की ओर बढ़ना शुरू कर देता है। रिसीविंग ग्रिपर पहले शेड से बाहर आता है। रैपियर गाइड में फिट किया गया ग्रिपर ओपनर ग्रिपिंग जबड़ों को खोलता है और कैच सेल्वेज के बाहर बाने के धागे को छोड़ता है। एक सक्शन नोजल अपने अंदर वेफ्ट के  धागे की पूंछ को खींच लेता  है और इसे टाइट  रखने में मदद करता है। कैच सेल्वेज के धागे उसी  समय में एक दूसरे को क्रॉस करते  है और बाने के धागे को मजबूती से पकड़ लेते  है। इस अवधि के दौरान इन्सर्ट रैपियर भी शेड से बाहर आ जाता है। अब बाने के धागों को रीड द्वारा  बीत किया  जाता है और वेफ्ट कैच प्लेट  द्वारा  बाने के धागे को फिर से पकड़ लिया जाता है। यह चक्र लगातार दोहराया जाता है।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

अंडर-पिक मोशन की संरचना और कार्य: ( Structure and working of under pick motion )

अंडर-पिक मोशन:  चूंकि इस पिकिंग मोशन  में करघे के नीचे पूरा पिकिंग तंत्र लगा होता है और पिकिंग स्टिक भी करघे के नीचे शटल को टक्कर मरती  है, ...