Sunday, June 20, 2021

फाइव व्हील टेक अप मोशन (एक सेकेंडरी लूम मोशन , five wheel take up motion( a secondary loom motion)

 फाइव व्हील टेक अप मोशन (एक सेकेंडरी लूम मोशन)


टेक अप मोशन एक सेकेंडरी लूम मोशन होता  है। टेक अप मोशन कपड़े की बुनाई लगातार  जारी रखने में मदद करता है। जब बुनाई के दौरान कपड़े को करघे पर बुना जाता है, तो इसे कपड़े में प्रति इंच पिक्स के अनुसार नियमित रूप से खींचा  जाता है। यह फैब्रिक पुलिंग (ड्राइंग) प्रक्रिया करघे के संचालन के दौरान जारी रहती है। यह खींचा हुआ कपड़ा हमें कपड़े के बीम या कपड़े के रोलर पर लपटता  है।

शटल लूम में, रुक-रुक कर  चलने बाले टेक अप मोशन का उपयोग किया जाता है। दरअसल करघे में दो तरह के टेक अप मोशन का इस्तेमाल किये  जाते  है।

1- इंटरमिटेंट टेक अप मोशन 

2 - कंटीन्यूअस टेक अप  मोशन 

इंटरमिटेंट टेकअप मोशन :

इस तरह के तंत्र में, एमरी रोलर लगातार नहीं घूमता है। जब अंतिम डाली गई पिक को रिड के द्वारा बीट किया  जाता है, तो टेक अप रोलर कपड़े को आगे की दिशा में खींचता है और कपड़े की बीम पर  लपेटने में  मदद देकरता है। फैब्रिक पुलिंग (ड्राइंग) रुक-रुक कर होती है।

शटल लूम में दो प्रकार के टेक अप  तंत्र का उपयोग किया जाता है:

१-पाँच व्हील  टेक अप मोशन

२-सात व्हील टेक अप मोशन 

 पाँच व्हील टेक अप मोशन :

 आई  - फल्क्रम 

जी - पुशिंग पॉल 

ई - रैचेट  व्हील

एफ -  चेंज पिनियन 

ए - बीम व्हील

बी - पिन रोलर या  टेक अप रोलर या एमरी रोलर 

एच - कैचर  

सी - स्टड व्हील

डी - स्टड पिनियन

जे - फिंगर 

फाइव व्हील टेक अप मोशन इंटरमिटेंट टेक अप मोशन होता  है। इस फाइव व्हील टेक अप मोशन मैकेनिज्म में पांच गियर वाली ट्रेन का इस्तेमाल किया जाता है। यह तंत्र एक कनेक्टिंग रॉड द्वारा स्ले सोर्ड  के माध्यम से गति प्राप्त करता है। कनेक्टिंग रॉड का एक सिरा स्टड की मदद से स्ले सोर्ड  से जुड़ा होता है। कनेक्टिंग रॉड का यह सिरा दोनों दिशाओं में घूमने के लिए स्वतंत्र होता है। इस कनेक्टिंग रॉड का दूसरा सिरा फिंगर  'J' के नीचे फलक्रम्ड होता  है।

जब क्रैंक घूमता   है, तो यह स्ले सोर्ड  को रोक्किंग मोशन  प्रदान करता है। कनेक्टिंग रॉड एक तरफ से स्ले सोर्ड  से जुड़ी होती है। जब स्ले फ्रंट डेड सेंटर से बैक डेड सेंटर की ओर बढ़ना शुरू करता है, तो स्ले अपने साथ जुड़ी हुई कनेक्टिंग रॉड को धक्का देना शुरू कर देता है।

जब कनेक्टिंग रॉड बैक डेड सेंटर की ओर जाती है, तो यह दूसरे सिरे से फल्क्रम  वाली फिंगर  'J' को धक्का देती है।

कनेक्टिंग रॉड फिंगर  'J' को धक्का देती है। चूँकि फिंगर  'J' बिंदु 'I' पर फलक्रम्ड होती  है, इसलिए यह फिंगर  'I' के फल्क्रम  पर कोणीय गति करती है। स्ले सोर्ड  की स्थिति के साथ फिंगर  के इस कोणीय आंदोलन की दिशा बदल जाती है।

पुशिंग पावल 'जी' फिंगर  'जे' के ऊपरी स्लॉट में लगा होता है। इस पुशिंग पॉवेल को स्टड की मदद से लगाया गया है। यह पॉल  इस स्टड पर स्वतंत्र रूप से चल सकता है।

जैसे ही फिंगर  बैक डेड सेण्टर की  ओर जाती है, धक्का देने वाला पॉल  रैचेट  व्हील 'ई' को कोणीय गति प्रदान करता है। रैचेट  व्हील  अब चलना शुरू करता है।

यह रैचेट  व्हील शाफ्ट पर लगा होता है। रैचेट  व्हील 'ई' शाफ्ट के साथ घूमता है। इस शाफ्ट पर एक चेंज पिनियन 'एफ' भी लगाया जाता है। चेंज  पिनियन 'F' और रैचेट  व्हील 'E' एक साथ उसी दिशा में घूमते हैं जैसा कि ऊपर दिए गए चित्र में दिखाया गया है।

रैचेट  व्हील के ऊपर एक कैच 'एच' (पुलिंग पॉल ) भी लगाया जाता  है। जब फिंगर  बैक डेड सेंटर की ओर वापस जाती है तो यह कैच रैचेट  व्हील की रिवर्स मोशन को रोकता है।

चेंज पिनियन  शाफ्ट पर लगे स्टड व्हील 'सी' को गति प्रदान करता है। इस शाफ्ट को स्टड व्हील से घुमाया जाता है। इस शाफ्ट के साथ एक और स्टड पिनियन 'डी' भी लगा होता  है। स्टड व्हील और स्टड पिनियन एक साथ घूमते हैं।

स्टड पिनियन बीम व्हील 'ए' के ​​साथ गीयर्ड होता है  और टेक अप  रोलर शाफ्ट के साथ जुड़ा हुआ  होता है। स्टड पिनियन बीम व्हील को गति प्रदान करता है। जब यह बीम व्हील  घूमता है, तो यह टेक अप रोलर 'बी' को  भी अपने साथ घुमाता है।

टेक अप रोलर घड़ी की विपरीत दिशा में घूमता है। चूंकि कपड़ा इसके ऊपर से गुजरता है, घूमता हुआ टेक अप रोलर रोलर कपडे को आगे की ओर  ले जाता है, और कपडा खींचता रहता है.

No comments:

Post a Comment

Featured Post

यार्न काउंट (यार्न फाइननेस ) और यार्न काउंट के विभिन्न सिस्टम ( Yarn count or yarn fineness and different yarn count systems )

 यार्न काउंट (यार्न फाइननेस ) और यार्न काउंट के विभिन्न सिस्टम: सूत की फाइननेस  को सूत की काउंट के रूप में जाना जाता है। यार्न की फाइननेस को...