Sunday, June 20, 2021

लूज़ रीड मोशन (वार्प प्रोटेक्टर मोशन ), loose reed motion ( warp protector motion )

 लूज़ रीड मोशन  (वार्प प्रोटेक्टर मोशन ):


लूज रीड मोशन का उद्देश्य:

जब एक शटल लूम काम करता है, तो हमेशा शेड में शटल को फंसने का मौका बना रहता  है। चूंकि रीड बीटिंग मोशन करता है, शटल के फंसने की स्थिति में  रीड शटल को  बीत कर देती  है। बुनाई के दौरान शटल के फसने के बाद बीटिंग से  एक बहुत ही गंभीर समस्या पैदा हो जाती  है। इस स्थिति में कई वार्प के धागे टूट-फूट  जाते हैं। शटल और रिड भी  क्षतिग्रस्त हो सकते हैं। लूज रीड मोशन मैकेनिज्म एक साथ बहुत सरे धागों को  टूटने, रीड और शटल को नुकसान से बचाता है।

इस प्रकार, हम कह सकते हैं कि लूज रीड मोशन मैकेनिज्म का मुख्य उद्देश्य ताना के बहुत सरे धागों के टूटने और शटल और रीड के नुकसान को रोकना है।

लूज रीड मोशन तंत्र  की संरचना:

रीड केस और रीड कैप के बीच में रीड  में रीड लगाया जाता है। रीड कवर आर्म रीड को मजबूती से पकड़ने में मदद करता है। यह रीड कवर आर्म एल शेप में दिखता है। यह डैगर  या स्टॉप रॉड फिंगर के जोड़ के पास फलक्रम होता है। एक एंटी-फ्रिक्शन बाउल को स्टॉप रॉड से भी जोड़ा जाता है। एक एंटी-फ्रिक्शन बाउल, लूम के  सामान्य चलने की स्थिति में बो स्प्रिंग को दबाता है। स्टॉप रॉड के साथ एक स्पाइरल  स्प्रिंग भी जुड़ा हुआ होता  है। एक फ्रॉग को स्टॉप रॉड से जोड़ा जाता है। स्टार्टिंग हैंडल पर एक हीटर इस तरह लगाया जाता है कि फ्रॉग  सामान्य रूप से चलने की स्थिति में उसके नीचे से गुजरे। स्टार्टिंग  हैंडल पर एक दाँतेदार ब्रैकेट लगाया जाता है। सामान्य लूम वर्किंग  में डैगर  इस दाँतेदार ब्रैकेट को धक्का नहीं देता है।

लूज रीड मोशन का कार्य सिद्धांत:

रीड कवर आर्म द्वारा रीड कैप और रीड केस के बीच में रीड को मजबूती से पकड़ लिया जाता है। जब शटल एक शटल बॉक्स से दूसरे शटल बॉक्स में जाती है, तो यह रीड पर दबाव डालती है। बो स्प्रिंग  का तनाव रीड को रीड केस  में मजबूती से स्थिर  रखने में मदद करता है। बो स्प्रिंग  उस दबाव के बराबर दबाव उत्पन्न नहीं करता है जो  बीटिंग के दौरान रीड  पर लगता  है। इसलिए स्टॉप रॉड पर लगा एक स्पाइरल  स्प्रिंग,  बीटिंग मोशन  के मामले में रीड  को मजबूती से पकड़ने में मदद करता है।

सामान्य चलने की स्थिति में, फ्रॉग  हीटर के नीचे से गुजर जाता है और डैगर  दाँतेदार ब्रैकेट को धक्का नहीं देता है।

जब शटल विपरीत शटल बॉक्स तक पहुंचने में विफल हो जाती है, तो शटल या तो शेड से बाहर निकल   जाती है या शेड में फंस जाती है।

 हम अच्छी तरह से जानते हैं कि रीड प्रत्येक पिक इंसर्शन  के बाद पिक को बीट करता  है। रीड  शटल के फंसने की स्थिति में यदि शटल को बीट कर  देता है तो  इससे  फंसे हुए शटल की बीटिंग  से कई ताना टूट जाते हैं और शटल और रीड को नुकसान होता है।

जैसे ही शटल शेड में फंस जाता है, लूज रीड मोशन मैकेनिज्म तुरंत प्रभाव में आ जाता है। शटल ट्रैपिंग की स्थिति में बीटिंग मोशन के दौरान रीड पर लगने  वाला दबाव बढ़ जाता है।

इससे रीड कवर आर्म में बड़ा हुआ  बीटिंग प्रेशर ट्रांसफर हो जाता है । रीड का निचला भाग रीड केस  से बाहर आ जाता  है। और रीड अधिक जोर से फंसे शटल पर प्रहार  नहीं करता है। ताना, रीड  और शटल सुरक्षित रहते हैं।

चूंकि रीड कवर आर्म अपने फलक्रम पॉइंट पर फलक्रम होता है, रीड कवर आर्म आंशिक कोणीय गति प्राप्त करता है।

रीड कवर आर्म स्टॉप रॉड से जुड़ा होता है ताकि स्टॉप रॉड ऊपर उठ जाए। फ्रॉग , हीटर के ऊपर आ जाता है। हीटर फ्रॉग  की लिफ्ट को बढ़ा देता  है। स्टॉप रॉड पर लगा डैगर, दाँतेदार ब्रैकेट के सामने आ जाता  है और उसे धक्का देता है। इस तरह, स्टार्टिंग  हैंडल अपने स्लॉट से बाहर आ  जाता है और करघा तुरंत बंद हो जाता है।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

फ्रिक्शन स्पिनिंग विधि, मुख्य विशेषताएं, सीमाएं, बुनियादी संरचना और फ्रिक्शन स्पिनिंग मशीन का कार्य सिद्धांत (Friction spinning method, main features, limitations, basic structure and working principle of friction spinning machine )

 फ्रिक्शन स्पिनिंग  विधि, मुख्य विशेषताएं, सीमाएं, बुनियादी संरचना और फ्रिक्शन स्पिनिंग  मशीन का कार्य सिद्धांत फ्रिक्शन स्पिनिंग क्या है? ....