Thursday, July 22, 2021

यार्न काउंट (यार्न फाइननेस ) और यार्न काउंट के विभिन्न सिस्टम ( Yarn count or yarn fineness and different yarn count systems )

 यार्न काउंट (यार्न फाइननेस ) और यार्न काउंट के विभिन्न सिस्टम:

सूत की फाइननेस  को सूत की काउंट के रूप में जाना जाता है। यार्न की फाइननेस को यार्न के रैखिक घनत्व के रूप में भी जाना जाता है। किसी सूत की भार प्रति  इकाई लंबाई या लंबाई प्रति इकाई भार  को सूत की काउंट कहते हैं। एक सूत की काउंट संख्यात्मक संख्याओं के रूप में व्यक्त की जाती है। दुनिया के विभिन्न क्षेत्रों में यार्न की काउंट  (यार्न का रैखिक घनत्व) व्यक्त करने के लिए विभिन्न प्रणालियों का उपयोग किया जाता है। सभी प्रणालियाँ नीचे दिए गए सिद्धांतों का पालन करती हैं:

प्रत्यक्ष प्रणाली(डायरेक्ट सिस्टम)।

अप्रत्यक्ष प्रणाली (इंदिरेक्ट सिस्टम)।

प्रत्यक्ष प्रणाली( डायरेक्ट सिस्टम):

सूत की काउंट  की इस प्रणाली में, सूत की लंबाई स्थिर रहती है, और सूत की फाइननेस  के अनुसार सूत का वजन भिन्न होता है। जैसे-जैसे सूत की काउंट   बढ़ती है, सूत मोटा होता जाता है। आजकल  निम्नलिखित गणना प्रणालियों का उपयोग किया जा रहा है:

 डेनियर:

मानव निर्मित या रिजेनेरेटेड फाइबर्स   के निरंतर फिलामेंट यार्न की काउंट को व्यक्त करने के लिए इस प्रणाली का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है। ९००० मीटर सूत के, ग्राम में सूत के भार को सूत का डेनियर कहा जाता है। यार्न का डेनियर बढ़ने पर यार्न मोटा होता जाता है। किसी भी सूत के डेनियर का पता लगाना बहुत आसान होता है।

यदि आपके पास एक बड़ा यार्न पैकेज है, तो आप रैप रील की मदद से 9000 मीटर यार्न की लंबाई माप सकते हैं। अब तौल पैमाने की सहायता से सूत का भार ज्ञात कीजिए। इस प्रकार सूत की इस लंबाई का ग्राम में भार सूत का डेनियर होगा।

यदि आपके पास बहुत कम लंबाई का धागा है, तो इस बारे में चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं होती  है। आप यार्न की उपलब्ध लंबाई ले सकते हैं। इसके बाद, सूत का भार ग्राम में ज्ञात कीजिए। इन मानों को नीचे दिए गए सूत्र में रखें

मान लीजिए कि सूत का वजन W ग्राम है और सूत की लंबाई L मीटर है। यार्न का डेनियर निम्न सूत्र द्वारा प्राप्त किया जाता है:

टेक्स:

यह आमतौर पर निरंतर फिलामेंट यार्न की फाइंनेस  को व्यक्त करने के लिए उपयोग किया जाता है। १००० मीटर सूत के ग्राम में भार को सूत का टेक्स कहा जाता है। जब सूत का टेक्स बढ़ता है तो सूत मोटा होता  जाता है। यार्न के टैक्स की गणना करना बहुत आसान होता  है। सबसे पहले सूत के पैकेज से १००० मीटर की लंबाई नापी जाती है , फिर तोलने के पैमाने की सहायता से उसका वजन ग्राम्स में  ज्ञात किया जाता है । इस १००० मीटर   लम्बाई के सूत का ग्राम्स में वजन यार्न का  टेक्स कहलाता है।

यदि आपके पास सूत की लंबाई कमहोती है  है, तो आपको सूत की लंबाई मापनी होती और उसका वजन ग्राम में ज्ञात करना होता है । अब दोनों मानों को नीचे दिए गए फॉर्मूले में रखा जाता है।

टेक्स प्रणाली के कुछ अन्य संस्करण नीचे दिए गए हैं:

डेसी टेक्स:

10000 मीटर लम्बे  सूत के ग्राम में भार को सूत का डेसी-टेक्स कहा जाता है।

मिली-टेक्स:

1000 मीटर सूत के मिलीग्राम में भार को सूत का मिलीटेक्स कहा जाता है।

किलोटेक्स:

1000 मीटर सूत के किलो ग्राम में भार को सूत का किलोटेक्स कहा जाता है।

एल बी एस काउंट  (जूट  काउंट):

१४४०० गज लम्बे यार्न के पाउंड (एलबीएस) में वजन को यार्न की जूट काउंट  (एलबीएस ) कहा जाता है। इसका उपयोग जूट के धागे की फ़ाइननेस  (काउंट ) को व्यक्त करने के लिए किया जाता है। यार्न का मोटापन बढ़ जाता है जब यार्न की एलबीएस काउंट बढ़ती है। चूंकि एक रैप रील की मदद से १४४०० गज की लंबाई को मापना संभव नहीं होता  है, इसलिए यार्न की किसी भी संभावित लंबाई को यार्न पैकेज से लिया जाता है। इसका वजन ग्राम में तौल पैमाने की मदद से प्राप्त किया जाता है। एलबीएस काउंट की गणना  निम्नानुसार की  जाती है:

यदि सूत की लंबाई L मीटर है और सूत का भार W ग्राम है

अप्रत्यक्ष प्रणाली( इनडाइरेक्ट काउंट)

यार्न काउंट की इस प्रणाली में, यार्न का वजन स्थिर रहता है और यार्न की लंबाई यार्न की फ़ाइननेस  के अनुसार बदलती रहती है। जैसे-जैसे सूत की काउंट बढ़ती जाती है, सूत महीन होता जाता है। विभिन्न कपड़ा उद्योगों में आज अप्रत्यक्ष प्रणालियों की निम्नलिखित प्रणालियों का उपयोग किया जा रहा है:

न्यू इंग्लिश काउंट  (Ne):

एक पाउंड  वजन यार्न में ८४०  गज के हैंक्स (स्किन) की संख्या को न्यू इंग्लिश काउंट (Ne) कहा जाता है। चूँकि इस पद्धति का उपयोग आमतौर पर कपास की फाइननेस  को व्यक्त करने के लिए किया जाता है, इसलिए लोग इसे कॉटन काउंट भी कहते हैं। जब सूत कीकाउंट  बढ़ती है तो सूत महीन हो जाता है। इस पद्धति में यार्न  काउंट नीचे दिए गयी गणना विधि अनुसार  की   की जाती है:

मान लीजिए सूत की लंबाई Lमीटर है, सूत का वजन W ग्राम है।

न्यू मीट्रिक काउंट  (Nm):

एक ग्राम वजन के सूत की  मीटर में  लंबाई या एक किलोग्राम वजन के सूत की किलोमीटर में लंबाई को न्यू  मीट्रिक काउंट (Nm) कहा जाता है। Nm बढ़ने पर धागा महीन हो जाता है। यह आमतौर पर कपास की गिनती व्यक्त करने के लिए और कभी-कभी लिनन  यार्न के लिए उपयोग किया जाता है। नीचे दी गई विधि का पालन करके यार्न के  Nm  की गणना की जाती  है:

किसी भी धागे का Nm पता लगाना बहुत आसान होता  है। सबसे पहले सूत की एक उपयुक्त लंबाई ली जाती है , उस यार्न की  लंबाई मीटर में मापी जाती है और उसका वजन ग्राम में ज्ञात किया जाता है। अब दोनों मानों को नीचे दिए गए फॉर्मूले में रखा जाता है।

लिनन काउंट  (ली):

एक पौंड वजन यार्न में 300 गज की हैंकों की संख्या को लिनेन काउंट (ली) कहा जाता है। यह विशेष रूप से लिनन यार्न की फाइननेस  को व्यक्त करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इस प्रणाली में गिनती बढ़ने पर सूत महीन हो जाता है।

यदि सूत का वजन w ग्राम है, और सूत की लंबाई L मीटर है, तो सूत की लेया काउंट की  गणना निम्नानुसार की जाती है।

वर्स्टेड काउंट:

एक पौंड सूत में ५६० गज की हैंकों की संख्या को उस यार्न की वर्स्टेड काउंट  कहा जाता है। इसका उपयोग वर्स्टेड  धागे की फाइंनेस को  व्यक्त करने के लिए किया जाता है। इस प्रणाली में यार्न की काउंट  बढ़ने पर यार्न की फाइंनेस  बढ़ जाती है। यार्न की वर्स्टेड काउंट  की गणना निम्नानुसार की जाती है:

मान लीजिए कि सूत का वजन W ग्राम है, सूत की लंबाई L मीटर है

वूलन काउंट  (YSW):

एक पौंड सूत में 256 गज की हैंकों की संख्या को वूलन काउंट (YSW) कहा जाता है। जैसा कि सिस्टम का नाम इंगित करता है, इसका उपयोग ऊनी धागे की काउंट को व्यक्त करने के लिए किया जाता है। इस प्रणाली में यार्न की काउंट बढ़ने पर यार्न की फाइंनेस बढ़ जाती है। इस प्रणाली में यार्न की काउंट की गणना  निम्नानुसार की जाती है:

मान लीजिए कि सूत की लंबाई L मीटर है और सूत का वजन W ग्राम है।

वूलन काउंट (ड्यूस्बरी):

एक औंस वजन के  सूत की गज में लम्बाई  को  वूलन काउंट  (ड्यूस्बरी) कहा जाता है। इसका उपयोग ऊनी धागों की काउंट  को व्यक्त करने के लिए किया जाता है। इस प्रणाली में यार्न की काउंट  बढ़ने पर यार्न की फाइननेस  बढ़ जाती है। यह निम्न लिखित  अनुसार प्राप्त किया  जाता है:

मान लीजिए कि सूत की लंबाई L मीटर है और सूत का वजन W ग्राम है।

No comments:

Post a Comment

Featured Post

यार्न काउंट (यार्न फाइननेस ) और यार्न काउंट के विभिन्न सिस्टम ( Yarn count or yarn fineness and different yarn count systems )

 यार्न काउंट (यार्न फाइननेस ) और यार्न काउंट के विभिन्न सिस्टम: सूत की फाइननेस  को सूत की काउंट के रूप में जाना जाता है। यार्न की फाइननेस को...