Saturday, October 23, 2021

कपास कताई प्रक्रिया चार्ट और विभिन्न कताई प्रक्रियाएं

PLEASE CLICK ON THE BELOW LINK TO READ THIS FULL ARTICLE IN ENGLISH:


COTTON SPINNING PROCESS CHART AND VARIOUS SPINNING PROCESSES

 कपास कताई प्रक्रिया चार्ट और विभिन्न कताई प्रक्रियाएं:


 कपास कताई प्रक्रिया चार्ट:


 सूती धागे की कताई:


सूती धागे का निर्माण आज दो विधियों का उपयोग करके किया जाता है।

1 - रिंग फ्रेम स्पिनिंग 

2 - ओपन-एंड स्पिनिंग


सूती धागे की कताई में कुछ प्रक्रियाएं रिंग फ्रेम स्पिनिंग और ओपन-एंड स्पिनिंग दोनों के लिए सामान होती  हैं। कुछ प्रक्रियाओं का उपयोग केवल रिंग फ्रेम कताई में किया जाता है। सूती धागे की कताई में उपयोग की जाने वाली विभिन्न प्रक्रिया नीचे दी गई है:

ए - मिक्सिंग एंड ब्लो रूम:

कॉटन लिंट मशीन में फीड होता है। ये कॉटन लिंट इस मशीन द्वारा  अच्छी तरह से मिश्रित किये जाते  हैं, लिंट के आकार को न्यूनतम संभव आकार तक कम किया जाता है, साफ किया जाता है और इस  प्रक्रिया के बाद लैप का निर्माण होता है।

बी - कार्डिंग:

मशीन में लैप को फीड किया जाता है और इस प्रक्रिया में फाइबर से फाइबर पृथक्करण प्राप्त होता है। इस प्रक्रिया में अंतिम सफाई भी हासिल की जाती है। कार्डिंग प्रोसेस के अंत में स्लाइवर का निर्माण होता  है।

इन दो प्रक्रियाओं के बाद, स्लिवर को ओपन-एंड स्पिनिंग मशीन जैसे रोटर स्पिनिंग या एयर जेट स्पिनिंग में भेजा जाता है अन्यथा स्लिवर निम्नलिखित प्रक्रियाओं से गुजरता है:

सी - ड्रा फ्रेम (ड्राइंग):

कार्डिंग से प्राप्त कई स्लिवर मशीन में एक साथ फीड किये जाते हैं और इस प्रोसेस के अंत में  केवल एक स्लाइवर का निर्माण होता  है। इस प्रक्रिया में स्लाइवर  की समता प्राप्त होती है।

डी - कॉम्बिंग:

ड्रॉ फ्रेम से प्राप्त स्लाइवर को  कॉम्बिंग मशीन में फीड किया  जाता है। इस प्रक्रिया में, कपास से छोटे रेशे (12 मिमी तक लंबे रेशे) बहार निकल जाते हैं। इस प्रक्रिया द्वारा अधिकतम फाइबर स्ट्रेटनिंग भी प्राप्त की जाती है। प्रसंस्करण के बाद फिर से स्लाइवर का  उत्पादन होता है।

ई - स्पीड फ्रेम या रोविंग फ्रेम (सिम्पलेक्स):

कॉम्बिंग  से प्राप्त स्लाइवर को  इस मशीन में फीड किया जाता है। स्लाइवर  को उसकी मूल लंबाई से  कई गुना अधिक लम्बाई तक  खींचा जाता है। प्रसंस्करण के बाद रोविंग का निर्माण होता  है।

च - रिंग फ्रेम:

सिम्प्लेक्स से प्राप्त रोविंग को  रिंग फ्रेम में फीड किया जाता  है। इस प्रोसेस में रोविंग को अपनी मूल  लंबाई से कई गुना लम्बाई तक  खींचा जाता  है। रिंग ट्रैवलर की मदद से यार्न में आवश्यक डिग्री का ट्विस्ट भी डाला जाता है। अंत में, इस मशीन पर यार्न का निर्माण होता है। यार्न रिंग बॉबिन पर लपेटा जाता  है।


you may also interested in the below articles:

विभिन्न प्रकार के कपास और कपास की विभिन्न किस्में

यार्न काउंट, टेन्साइल स्ट्रेंथ (बंडल स्ट्रेंथ और यार्न सी.एस.पी. परीक्षण):

कपास( कॉटन) फाइबर की फाइननेस का परीक्षण (वायु प्रवाह विधि)

कपास और फ्लेक्स के रेशे मिश्रित सूत और प्रत्येक घटक का अनुमानित मात्रात्मक विश्लेषण

कपङे का विश्लेषण ( वोवन फैब्रिक एनालिसिस)


No comments:

Post a Comment

Featured Post

फ्रिक्शन स्पिनिंग विधि, मुख्य विशेषताएं, सीमाएं, बुनियादी संरचना और फ्रिक्शन स्पिनिंग मशीन का कार्य सिद्धांत (Friction spinning method, main features, limitations, basic structure and working principle of friction spinning machine )

 फ्रिक्शन स्पिनिंग  विधि, मुख्य विशेषताएं, सीमाएं, बुनियादी संरचना और फ्रिक्शन स्पिनिंग  मशीन का कार्य सिद्धांत फ्रिक्शन स्पिनिंग क्या है? ....