Friday, June 4, 2021

फैब्रिक क्यूसिक ड्रेप टेस्टर की सहायता से ड्रेप कोफिशिएंट का परीक्षण: ( fabric drape test by cusick drape tester)

 फैब्रिक क्यूसिक ड्रेप टेस्टर की सहायता से  ड्रेप कोफिशिएंट का परीक्षण:

कपड़े का ड्रेप गुणांक:

यह कपड़े की एक बहुत ही महत्वपूर्ण विशेषता है। यह गुरुत्वाकर्षण द्वारा कपड़े के विरूपण को निर्धारित करता है जबकी  कपडा को लटकने पर वह अपने वजन के द्वारा सभी दिशाओं में मुड़ता है। "ड्रेप गुणांक ड्रेप्ड सैंपल के क्षेत्र तथा  सपोर्टिंग डिस्क के क्षेत्र के बीच के अंतर और सैंपल के क्षेत्र तथा  सपोर्टिंग डिस्क के क्षेत्र के  बीच का अंतर के अनुपात के बराबर होता है"। इसे प्रतिशत के रूप में भी व्यक्त किया जाता है। इसका मान हमेशा एक से कम हो जाता है। ड्रेप गुणांक का निम्न मान कपड़े के अच्छे ड्रेपिंग गुणों को दर्शाता है या ड्रेप गुणांक के कम% का अर्थ है कि कपड़े में अच्छी ड्रेपिंग क्षमता है।

यह विशेषता परिधान की सौंदर्य अपील में भी योगदान देती है। ऐसे कई कारक हैं जो कपड़े की ड्रेपिंग विशेषता को प्रभावित करते हैं। ड्रेप गुणांक को प्रभावित करने वाले कुछ कारक हैं फैब्रिक जीएसएम, प्रयुक्त सामग्री और कपड़े की बुनाई।

कपड़े के ड्रेप गुणांक का परीक्षण सिद्धांत:

हम ऊपर कपड़े के ड्रेप गुणांक के बारे में पहले ही बता चुके हैं। कपड़े के नमूने का क्षेत्र प्राप्त किया जाता   है और इसे सपोर्टिंग  डिस्क पर रक्खा  कर  जाता है। इसके बाद में जब कपडा सिकुड़ जाता है तो फिर सिकुड़े हुए  नमूना का क्षेत्र प्राप्त किया  जाता है। अंत में, ड्रेप गुणांक की गणना सूत्र के अनुसार की जाती है।


प्रयुक्त उपकरण:

फैब्रिक ड्रेप टेस्ट में उपयोग किए जाने वाले उपकरण नीचे दिए गए हैं:

1 - क्यूसिक ड्रेप टेस्टर

2 - वजन का पैमाना।

3 - कैंची

4 - मापने का पैमाना

5 - कपड़ा

6 - कागज का कार्ड जिसमें थोड़ा कड़ापन हो।

7 - मार्कर पेन

8 - फ्लैट टेबल

9 - कम्पास

10 - एक कार्बन पेंसिल

11 - कैलकुलेटर

परीक्षण प्रक्रिया:

कपड़े के ड्रेप गुणांक का पूरा परीक्षण नीचे दिए गए चरणों में पूरा होता है:

कपड़े का नमूना तैयार करना:

क्यूसिक ड्रेप टेस्टर के साथ तीन प्रकार के टेम्प्लेट दिए जाते हैं।

बड़ा  व्यास टेम्पलेट - ३६ सीएमएस।

मध्यम  व्यास टेम्पलेट - 30 सेमी।

छोटे  व्यास टेम्पलेट  - 24 सीएमएस।

इस चित्र में, टेम्प्लेट को "G" के रूप में चित्रित किया गया है।

सपोर्टिंग  डिस्क का व्यास 18 CMS है।

इस परीक्षण के लिए कुल चार नमूने तैयार किए जाते  हैं। सपोर्टिंग  डिस्क के ऊपर नमूनों की सीधी सतह को ऊपर की ओर रखकर दो नमूनों का परीक्षण किया जाता है। शेष दो परीक्षण नमूनों का परीक्षण सपोर्टिंग डिस्क के ऊपर बैकसाइड को ऊपर रखकर नमूनों का परीक्षण किया जाता है। चारों नमूनों की अलग-अलग जांच की जाती  है।

नमूना काटने के टेम्पलेट को कपड़े की कठोरता के अनुसार चुना जाता है। छोटे व्यास के टेम्प्लेट का उपयोग कम कठोरता वाले कपड़े का परीक्षण करने के लिए किया जाता है।

उच्च कठोरता वाले कपड़े का परीक्षण करने के लिए बड़े व्यास के टेम्पलेट का उपयोग किया जाता है।

मध्यम व्यास के टेम्पलेट का उपयोग मध्यम कठोरता वाले कपड़े का परीक्षण करने के लिए किया जाता है।

टेम्पलेट को इस तरह से चुना जाना चाहिए कि जब नमूने को  सपोर्टिंग सहायक डिस्क पर लटकाया  जा रहा हो तो नमूना लटकने पर इसमें सिकुड़न जरूर आये । सपोर्टिंग  डिस्क का व्यास स्थिर रहता है।

कपड़ा समतल सतह (टेबल) पर फैलाया जाता  है। कपड़े के ऊपर एक उपयुक्त टेम्पलेट रखा जाता  है। एक मार्कर पेन की सहायता से आउट लाइन्स का अंकन टेम्पलेट के किनारों के साथ किया जाता है।




अब परीक्षण के नमूने को कैंची की मदद से चिह्नित आउट लाइन्स  के साथ काटा जाता है। नमूने के बीच में एक बहुत छोटा छेद (पिनहोल) बनाया जाता है।

 आप परीक्षण नमूने ऊपर वर्णित विधि का पालन करके तैयार किए जाते हैं।

कागज के रिंग  की तैयारी:

इस टेस्ट में कुल चार पेपर रिंग तैयार की जाती हैं। पेपर रिंग का उपयोग परीक्षण नमूने के ड्रेप गुणांक के परीक्षण के लिए किया जाता है। प्रत्येक पेपर रिंग का बाहरी व्यास परीक्षण नमूने के व्यास के बराबर रखा जाता है। आप नीचे दिए गए चित्र को देखें।


पेपर कार्ड का एक घेरा काटने के बाद, इसे टेबल के ऊपर रख दिया जाता है। पेपर डिस्क का केंद्र बिंदु पाया जाता है। 18 सेमी ब्यास का एक ब्रत (सहायक डिस्क के बराबर) कागज कार्ड डिस्क के केंद्र में एक कंपास और कार्बन पेंसिल की मदद से खींचा जाता है। कम्पास की सुई की नोक को पेपर कार्ड डिस्क के ठीक केंद्र में रखा जाना चाहिए। अब पेपर डिस्क पर खींचे गए सर्कल के साथ कैंची की मदद से पेपर रिंग को काट दिया जाता है।


 सपोर्टिंग  डिस्क पर नमूना लोड करना:


जब सभी नमूने तैयार हो जाते हैं और कागज के छल्ले भी तैयार हो जाते हैं, तो परीक्षण के नमूने को क्यूसिक ड्रेप टेस्टर की सपोर्टिंग  डिस्क पर रखा जाता है। एक-एक करके नमूनों की जांच की जाती है। जब एक नमूने का पूरा परीक्षण पूरा हो जाता है, तो अगले नमूने को  सपोर्टिंग डिस्क पर रखा जाता है। आप नीचे दी गई तस्वीर देख सकते हैं:

जैसा कि ऊपर चित्र में दिखाया गया है, तकनीशियन ड्रेप टेस्टर का ढक्कन लाता है। नमूने का केंद्रीय  छेद नमूना सहायक डिस्क के केंद्र में लगे पिन में रखा जाता  है। अब नमूने को हाथ से धीरे से दबाया जाता है। नमूने के केंद्र को सहायक डिस्क के केंद्र से स्पर्श कराया  जाता है। नमूना सपोर्टिंग  डिस्क और कांच की सतह पर फैला हुआ होता है। नमूना सतह पर कोई सिकुड़न  नहीं होनी चाहिए। अब, क्यूसेक डरपे टेस्टर  का ढक्कन बंद कर दिया जाता  है।


ड्रापिंग पैटर्न शैडो के ठीक ऊपर आउटलाइन को चिह्नित करना:

सपोर्टिंग डिस्क पर माउंट करने से पहले पेपर रिंग को तौला जाता है। पेपर  रिंग का वजन रिकॉर्ड किया जाता है। चित्र  में दिखाए गए अनुसार सपोर्टिंग  डिस्क पर पेपर रिंग लगाई जाती  है:

अब ड्रेप टेस्टर एक उपयुक्त बिजली आपूर्ति से जोड़ा जाता  है। सप्लाई प्वाइंट चालू किया जाता  है। टेस्टर  के अंदर एक हेलोजन  बल्ब लगा होता है। ड्रेप टेस्टर के अंदर एक परवलयिक दर्पण लगाया जाता है। जब प्रकाश परवलयिक दर्पण के ऊपर गिरता है, तो यह ऊपर की दिशा में परावर्तित हो जाता है। ऊपर की ओर परावर्तित होने  वाला प्रकाश पेपर रिंग में प्रवेश करता है। नमूने द्वारा कवर किया गया क्षेत्र पेपर रिंग के ऊपर एक छाया (ड्रेपिंग पैटर्न) बनाता है। अब टेक्नीशियन मार्किंग पेन की मदद से ड्रेपिंग पैटर्न की शैडो के साथ आउटलाइन खींचता  है। अब ट्रेस किए गए पेपर रिंग को निकाल लिया जाता है। ड्रेपिंग पैटर्न की आउटलाइन शैडो को कैंची की मदद से सावधानी से काटा जाता है। कागज के छल्ले की बाहरी कटिंग को कूड़ेदान में फेंक दिया जाता है। पेपर रिंग का कटा हुआ  ड्रेपिंग पैटर्न तौला जाता  है।

अब, शेष तीन नमूनों के लिए यही प्रक्रिया दोहराई जाती है।

ड्रेप गुणांक गणना:

No comments:

Post a Comment

Featured Post

फैब्रिक प्रॉपर्टीज भाग - ३ ( fabric properties part - 3)

 फैब्रिक प्रॉपर्टीज भाग - ३ फैब्रिक पिलिंग:   जब कपड़े का उपयोग परिधान, फ्लैट शीट, फिटेड शीट, कार शीटिंग, टेबल लिनन आदि के लिए किया जाता है,...